क्या सरकार बचा पाएंगे उद्धव ठाकरे? एकनाथ शिंदे 14 विधायकों के साथ गुजरात के होटल में बंद

ज़रूर पढ़ें

NCP चीफ शरद पवार ने महाराष्ट्र सरकार पर मंडरा रहे संकट को खारिज करते हुए कहा कि सरकार पर किसी भी तरह का खतरा नहीं है. साथ ही उन्होंने एनसीपी विधायकों द्वारा क्रॉस वोटिंग की सुगबुगाहटों की भी नकार दिया है

सोमवार को महाराष्ट्र विधान परिषद चुनावों में बीजेपी और MVA (महा विकास आघाड़ी) गठबंधन ने पांच-पांच सीटें जीती हैं. ऐसे में उसके बाद हीं महाराष्ट्र की राजनीती में आज उथल पुथल शुरू हो गई. उद्धव सरकार पर अब खतरा मंडरा रहा है. उद्धव सरकार के दो दर्जन से अधिक बागी विधायकों ने गुजरात के सूरत में डेरा डाल दिया है और उनके साथ शिवसेना के वरिष्ठ नेता और मंत्री एकनाथ शिंदे मौजूद हैं.

- Advertisement -

मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि एकनाथ शिंदे के साथ वाले सभी विधायकों ने अपनी शर्त रखी है कि कांग्रेस-NCP के साथ गठबंधन तोड़े तो शिवसेना में बने रहेंगे. ये विधायक चाहते हैं कि शिवसेना एकनाथ शिंदे की अगुवाई में बीजेपी के साथ सरकार बनाएं.

ऐसे में जहाँ एक तरफ एकनाथ शिंदे और तमाम विधायक गायब हैं वहीँ शिवसेना ने एकनाथ शिंदे को अपने विधायक दल के नेता पद से हटा दिया जहाँ अब सेवरी विधायक अजय चौधरी शिवसेना विधायक दल के नए नेता चुने गए हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एकनाथ शिंदे के पद से हटाए जाने वाली चिट्ठी पर यहां 55 में से मात्र 22 विधायकों के दस्तखत थे.

EKNATH SHINDE

बता दें उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी (MVA) सरकार (Maharashtra Govt) पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं, चुकी बागी नेता एकनाथ शिंदे बगावत पर उतर गए हैं जहाँ एकनाथ शिंदे ने ट्वीट करते हुए लिखा कि हम बालासाहेब के कट्टर शिवसैनिक हैं. बालासाहेब ने हमें हिंदुत्व सिखाया है. उनके विचार और आनंद दिघे साहेब की सीख की वजह से हमने सत्ता पाने के लिए कभी धोखा नहीं दिया और न ही देंगे.

- Advertisement -

रिपोर्ट के मुताबिक एकनाथ शिंदे अपनी पार्टी से नाराज चल रहे हैं और फ़िलहाल पार्टी के संपर्क से दूर हैं. गुजरात के जिस होटल में विधायकों के साथ एकनाथ शिंदे हैं वहां बताया गया की सभी विधायकों के फ़ोन बंद आ रहे हैं.

इस मुश्किल समय में बीजेपी भी लगातार अपने दांव खेलने में लगी है, हालाँकि भाजपा नेता चंद्रकांत पाटिल ने कहा है कि BJP इस बार उतावलापन नहीं दिखना चाहती. उन्होंने कहा कि फिलहाल अविश्वास प्रस्ताव के लिए स्पेशल सेशन बुलाने की स्थिति पैदा नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि ‘अभी तो कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा. हम फिलहाल स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं.

जबकि इस बिच शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने BJP पर निशाना साधते हुए कहा कि यह मध्यप्रदेश और राजस्थान की तरह ही महाराष्ट्र सरकार को भी गिराने की साजिश है. उन्होंने कहा कि शिवसेना वफादारों की पार्टी है. हम ऐसा नहीं होने देंगे. उन्होंने आगे कहा कि सूरत में हमारे विधायकों को डरा-धमका कर रखा गया है. भाजपा ऑपरेशन लोटस की तरह रणनीति अपना रही है लेकिन देखते हैं कि यह कितना सफल रहता है. हमारी बात उन विधायकों से बात हुई है. उन्होने आगे कहा कि एकनाथ शिंदे हमारे साथ हैं, उनकी कुछ गलतफहमियां हैं वो दूर हो जाएगी.


फिलहाल शिवसेना पूरजोर कोशिश में लगी है की सरकार गिरने से बचाया जा सके इस बिच NCP चीफ शरद पवार ने महाराष्ट्र सरकार पर मंडरा रहे संकट को खारिज करते हुए कहा कि सरकार पर किसी भी तरह का खतरा नहीं है. साथ ही उन्होंने एनसीपी विधायकों द्वारा क्रॉस वोटिंग की सुगबुगाहटों की भी नकार दिया है.

NCP चीफ शरद पवार ने शिंदे की नाराजगी को शिवसेना का अंदरुनी मसला करार देते हुए कहा कि यह कोई पहली बार नहीं है, इससे पहले भी दो बार ऐसी कोशिश हो चुकी है.
इस सियासी घमासान में लगातार राजनितिक पार्टियों की मीटिंग चल रही है भागमभाग में शिवसेना समेत कांग्रेस ncp तमाम पार्टियां बैठकें कर रहे हैं.

अब देखना होगा की क्या उद्धव सरकार अपनी कुर्सी बचाने में कामयाब रहती है या बीजेपी अपनी सियासी दांव खेल जाएगी?

फिलहाल सूरत में शिवसेना नेता मिलिंद नार्वेकर की बीते 1 घंटे से शिवसेना विधायकों से बातचीत जारी है जबकि उधर महाराष्ट्र में अजित पवार, खुद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मिलने पहुंचे हैं. ख़बरों के मुताबिक शाम 7 बजे शिवसेना सांसदों की बैठक बुलाई गई है.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...