महुआ मोइत्रा की संसद सदस्यता हुई रद्द, जाने टीएमसी सांसद के खिलाफ क्या है आरोप?

ज़रूर पढ़ें

संसद में महुआ मोइत्रा से जुड़ी रिपोर्ट में पेश होने के बाद टीएमसी सांसद की सदस्या रद्द हो गई है. वहीं TMC सांसद को दोषी करार दे दिया गया है

संसद के शीतकालीन सत्र के 5वें दिन एथिक्स कमेटी ने टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा मामले में अपनी रिपोर्ट लोकसभा में पेश कर दी. बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने महुआ पर सवाल पूछने के बदले पैसे लेने का गंभीर आरोप लगाया था.

- Advertisement -

ऐसे में आज संसद में महुआ मोइत्रा से जुड़ी रिपोर्ट में साफ़ हो गया की टीएमसी सांसद की सदस्या रद्द हो गई है. वहीँ सांसद को दोषी करार दे दिया गया है.

महुआ मोइत्रा दोषी करार

बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने महुआ मोइत्रा के खिलाफ लिखित शिकायत दी थी. इस आधार पर लोकसभा अध्यक्ष ने शिकायत को लोकसभा की एथिक्स कमेटी को भेजा था. ऐसे में शुक्रवार को लोकसभा में एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट पेश कर दी गई.

महुआ मोइत्रा की सदस्यता पर संसद में लोकसभा स्पीकर ने घोषणा करते हुए बताया की सांसद की सदस्यता समाप्त होती है. संसद में भारी हंगामें के बिच स्पीकर ओम बिरला महुआ मोइत्रा के खिलाफ लोकसभा में प्रस्ताव पास कर दिया.

- Advertisement -

गौरतलब है कि संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने एथिक्स कमिटी की रिपोर्ट पर एक्शन के लिए मोशन मूव किया है.

महुआ मोइत्रा पर आरोप

संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने एथिक्स कमिटी की रिपोर्ट पर एक्शन के लिए मोशन मूव किया है जिसमें महुआ मोइत्रा को दोषी करार दिया है. बता दें कि जिस तरीके से महुआ मोइत्रा पर पैसे लेकर सवाल पूछने का आरोप था उससे ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस सवालों के घेरे में है.

बता दें कि टीएमसी सांसद पर आरोप था कि महुआ ने बिजनेसमैन दर्शन हीरानंदानी के कहे अनुसार संसद में अदाणी ग्रुप और इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर के खिलाफ लगातार बोला. वहीँ महुआ ने संसद में इसी मुद्दे से जुड़े सवाल उठाए जो पैसे लेकर किये हैं.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...