लोकसभा में हरे रंग तो राज्यसभा में लाल रंग कि कारपेट क्यूं बिछी हुई है?

ज़रूर पढ़ें

राजधानी दिल्ली में स्थित गोल इमारत जैसी दिखने वाली ऐतिहासिक संसद भवन में लोकसभा को भारतीय संसद का निचला सदन यानि लोअर हाउस कहा जाता है, जहाँ जनता द्वारा चुने हुये प्रतिनिधि संसद के रूप में देश की सेवा में काम करते हैं

भारत का सबसे मजबूत ढांचा संसद , देश के संबिधान का मंदिर माना जाता है. संसद भवन उस ऐतिहासिक पालो की गवाह है जिसने कानून और राष्ट्र को कई ऐसे पल दिए हैं, जिसने भारतवर्ष के सम्मान में चार चाँद लगा दिए.

- Advertisement -
PARLIAMENT OF INDIA

आज इस रिपोर्ट में संबैधानिक मंदिर संसद की उन दो महत्वपूर्ण सदनों, लोकसभा और राज्यसभा की बात होगी जिसने देश की तर्रकी में नई दिशा और दशा दी है.

WHY IS THE CARPET OF GREEN COLOR IN THE LOKSABHA AND RED IN RAJYA SABHA?

आज उन सदनों के उस विशेष जानकारी पर आपका ध्यान खीचेंगे जिससे देखा तो आपने कई बार होगा लेकिन, लेकिन उससे आप अबतक अनजान होंगे.

सबसे पहले आप इन दोनों सदनों की तस्वीरो को गौर से देखिये और सोचिये म इनमे खास अंतर क्या है. चलिए अगर आप समझ गए तो मुबारक हो, और जिन्होंने इसे नहीं समझा उन्हें बता दे की दरअसल इन दोनों ही सदनों की कारपेट का रंग एक दूसरे से अलग है, जहाँ लोकसभा के अंदर ग्रीन कारपेट बिछी है तो वही राजयसभा के अंदर लाल कारपेट लगी है.

- Advertisement -
PARLIAMENT HOUSE- LOKSABHA AND RAJYA YSABHA

राजधानी दिल्ली में स्थित गोल इमारत जैसी दिखने वाली ऐतिहासिक संसद भवन में लोकसभा को भारतीय संसद का निचला सदन यानि लोअर हाउस कहा जाता है, जहाँ जनता द्वारा चुने हुये प्रतिनिधि संसद के रूप में देश की सेवा में काम करते हैं. इस सदन की कारपेट हरी क्यों है, इसके पीछे एक बड़ा कारन है, जहाँ काफी सोच विचार के साथ कारपेट का रंग हरा रखा गया है.

LOKSABHA

बता दे की इसका करना है जनता, जहाँ लोकसभा में सांसद भेजने की पूरी जरेम्मेदारी उनकी होती है और इनका सीधा प्रतिनिधित्व भारत की जनता करती है, इसलिए यहां प्रतिनिधियों के ज़मीन से जुड़े होने के प्रतीक के तौर पर हरे रंग का इस्तेमाल होता है. जबकि इसे घास या बड़े स्तर पर कृषि का प्रतीक हरे रंग को माना जाता है.

आगे बढ़ते हैं, अब यहाँ बारी आई राज्यसभा की. जहाँ भारतीय लोकतंत्र की अनूठी शक्ति के रूप में राजयसभा का अहम् जगह है, यहां राज्यों के जन प्रतिनिधियों के आंकड़ों के हिसाब से प्रतिनिधि पहुंचते हैं. राज्यसभा को उच्च सदन या अपर हाउस का औदा दिया गया है. यहां इस सदन में लाल रंग की कार्पेट बिछाई जाती है और यहां लाल रंग राजसी गौरव और स्‍वाधीनता संग्राम में शहीदों के बलिदान का प्रतीक माना जाता है, और इसी उद्देश्य के कारन राज्यसभा के कारपेट का रंग लाल है.

अब उम्मीद है आपको हमारी रिपोर्ट मे जानकारी होगी की आखिर लोकसभा और राज्यसभा में अलग अलग रंगो के कारपेट क्यों होते हैं.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...