मनीष कश्यप पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में क्या-क्या हुआ? जानें डिटेल्स

ज़रूर पढ़ें

मनीष कश्यप (Manish Kashyap) की बेल और NSA याचिका पर CJI डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच ने सुनवाई से इनकार कर दिया. यूट्यूबर मनीष कश्यप को लेकर सुनवाई में किसी भी प्रकार की राहत नहीं देखने को मिली

तमिलनाडु में कथित बिहारी मजदूरों के फर्जी पिटाई को लेकर युट्यूबर मनीष कश्यप (Manish Kashyap) को लेकर आए दिन सुप्रीम कोर्ट से राहत की मांग की जा रही थी. लगातार मनीष कश्यप मामले में तारीखें बढ़ाई जा रही थी. आज भारत के सर्वोच्च न्यायालय में यूट्यूबर मनीष कश्यप को लेकर सुनवाई में किसी भी प्रकार की राहत नहीं देखने को मिली. मनीष कश्यप (Manish Kashyap) मामले में उनके समर्थक लगातार रिहाई और राहत की मांग करे जा रहे थे, पर कुछ ऐसा हुआ की सबकी आंखे खुली की खुली रह गई. आज हम आपको बताएंगे की मनीष कश्यप मामले में अब तक हुआ क्या है और आज की सुनवाई में NSA कानून को लेकर क्या क्या बात हुई.

- Advertisement -

क्या मनीष कश्यप से देश को खतरा?

यूट्यूबर मनीष कश्यप (Manish Kashyap) पर कथित वीडियो मामले के तहत राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लगाया गया था. और ये कानून उसी पर लगता है जिससे देश को किसी भी प्रकार का खतरा होता है. मनीष कश्यप पर अलग अलग जगहों पर कई मामले दर्ज हैं. जिन्हें एक जगह करने के लिए भी मांग किया जा रहा था. सर्वोच्च न्यायालय में मनीष कश्यप की याचिका को लेकर आज सुनवाई होना था. जिसके लिए सभी लोगों की आंखे आज के सुनवाई पर ही गड़ी हुई थी की क्या आज मनीष कश्यप (Manish Kashyap) के पक्ष में कोई राहत देखने को मिलेगी या फिर नहीं?

सुप्रीम कोर्ट का निर्णय

मनीष कश्यप (Manish Kashyap) की बेल और NSA याचिका पर CJI डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच ने सुनवाई से इनकार कर दिया. जहाँ कोर्ट ने कहा कि हाईकोर्ट जा सकते हैं. वहीं, सभी केस को एक जगह क्लब करने की याचिका को खारिज कर दिया.

कोर्ट में अन्य पत्रकारों के खिलाफ कार्यवाही की मांग

आज सोमवार के दिन यूट्यूबर मनीष कश्यप (Manish Kashyap) मामले सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होना था. जिसमें इस याचिका की सुनवाई पर मुख्य न्यायधीश डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस पीएस नरसिम्हा और जस्टिस जेबी पारदीवाला ने कहा की तमिलनाडु एक स्थिर राज्य है इसमें अशांति फैलाने के लिए आप कुछ भी कर रहे हैं. साथ ही उन्होंने ये भी कहा की इस विचार पर वो कुछ नहीं कर सकते. मनीष कश्यप (Manish Kashyap) के पक्ष में खड़े वकील मनिंदर सिंह ने सभी अन्य संस्था के पत्रकारों के खिलाफ भी कार्यवाही करने की मांग की. उन्होंने कहा है की उन्होंने कई मुख्यधारा अखबारों का एक किताब बनाया है और उन सभी पत्रकारों के खिलाफ कार्यवाही की मांग. साथ ही सुप्रीम कोर्ट में मनीष कश्यप को राहत नहीं मिली है.

- Advertisement -

कपिल सिब्बल ने मनीष कश्यप को लेकर कही ये बात

तमिलनाडु सरकार की ओर से लड़ रहे वकील कपिल सिब्बल ने भी अपनी बात रखी है. उन्होंने कहा है की याचिकाकर्ता तमिलनाडु में दर्ज एफआईआर के लिए मद्रास के उच्च न्यायलय की ओर रुख कर सकते हैं. साथ ही उन्होंने ये बात भी कही की मनीष कश्यप (Manish Kashyap) एक पत्रकार नहीं है. वो एक राजनेता हैं जो बिहार में चुनाव लड़ चुके हैं. आपको बता दें की पिछली सुनवाई के दौरान कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार से एनएसए कानून को लेकर भी कई सवाल भी किया.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...