Maharashtra में सियासी संकट के बिच इस्तीफा दे सकते हैं Uddhav Thakre. क्या BJP खेल जाएगी दांव?

ज़रूर पढ़ें

एकनाथ शिंदे उद्धव सरकार की बेहद अहम् कड़ी माने जाते रहे, उनकी नजदीकियों से हर पार्टी वाकिफ थी लेकिन उद्धव सरकार पर भारी आज वहीँ एकनाथ शिंदे पर गए. हालाँकि शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे जहाँ एक तरफ करीबन 12 विधायकों के साथ गुजरात से गुवाहाटी (असम) पहुंच चुके हैं. ऐसे में बीजेपी विधायक उनका स्वागत करने के लिए एयरपोर्ट भी पहुंचे थे

महाराष्ट्र में चल रहे सियासी तांडव के बिच एक तरफ जहाँ शिवसेना के अहम् कड़ी एकनाथ शिंदे बीजेपी विधायकों के लिए अतिथि बन गए हैं, तो वहीँ उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) की CM कि कुर्सी पर आंच आ गई है. आज शिवसेना पटरी से निचे उतरती हुई दिखाई दे रही है.

- Advertisement -
UDDHAV THAKRE

ख़बरों के मुतबिक उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे सकते हैं. जहाँ कुछ देर में कैबिनेट मीटिंग होने वाली है. इस्तीफे से पहले उद्धव ठाकरे अपनी शिवसेना पार्टी के सभी सांसदों और विधायकों से बात करने वाले थे लेकिन इससे पहले हीं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जानकारी देते हुए बताया कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे कोरोनो से संक्रमित हो गए हैं.

EKNATH SHINDE

इसके पीछे एकनाथ शिंदे और 40 विधायकों के बागी होना जिम्मेदर माना जा सकता है. महाराष्ट्र के घटनाक्रम में उठापटक बीते मंगलवार से हीं सामने आ रही थी जिसके बाद कल संजय राउत संत कई दिग्गज नेता इस इस बात को नकारते रहे कि उद्धव सरकार की सियासत फिलहाल डगमगाई हुई है. लेकिन आज हीं गंभीरता को समझते हुये शिवसेना नेता संजय राउत ने राज्य में मौजूदा राजनीतिक स्थिति के बीच महाराष्ट्र विधानसभा भंग करने के संकेत दिए थे. जहाँ उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा था कि महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक संकट विधानसभा भंग करने की ओर बढ़ रहा है.

विधानसभा भंग हुई तो क्या होगा?

- Advertisement -

भारतीय राजनीती में अगर आज उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देते हैं और तख्तापलट हो जाता है, ऐसे में ये अपने आप एक बड़ी सियासी हंगामे के रूप में आने वाले समय में याद किया जायेगा.

एकनाथ शिंदे उद्धव सरकार की बेहद अहम् कड़ी माने जाते रहे, उनकी नजदीकियों से हर पार्टी वाकिफ थी लेकिन उद्धव सरकार पर भारी आज वहीँ एकनाथ शिंदे पर गए. हालाँकि शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे जहाँ एक तरफ करीबन 12 विधायकों के साथ गुजरात से गुवाहाटी (असम) पहुंच चुके हैं. ऐसे में बीजेपी विधायक उनका स्वागत करने के लिए एयरपोर्ट भी पहुंचे थे.

ऐसे में एक बड़ा दांव बीजेपी के पाले में आता दिख रहा है और महा विकास अघाड़ी कमजोर पड़ती दिख रही है. बता दें कि जहाँ शिवसेना नेता संजय राउत विधानसभा होने के संकेत पहले हीं दिए है.
ऐसे में बता दें कि अगर उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) CM पद से इस्तीफा देते हैं तो सरकार विधानसभा भंग करने का सुझाव देती है और राज्यपाल सुझाव मान लेते हैं तो विधानसभा भंग हो जाएगी और दोबारा चुनाव होगा.

अगर विधानसभा भंग नहीं होती है तो बीजेपी शिवसेना के बागियों के साथ मिलकर सरकार बनाने की कोशिश कर सकती है. वहीं इस स्थिति में शिवसेना- NCP-कांग्रेस को विपक्ष में बैठना होगा.

वहीँ एक परिस्थिति और आ सकता है वो ये कि राज्यपाल सुझाव को नकार भी सकते हैं. और ऐसा तब होगा जब राज्यपाल को लगेगा कि सरकार अल्पमत में है. ऐसे में राज्यपाल सरकार से फ्लोर टेस्ट पर बहुमत साबित करने को कह सकते हैं.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...