राष्ट्रपति चुनाव को लेकर दो फाड़ में बंटी महा विकास अघाड़ी गठबंधन,मुश्किल में उद्धव ठाकरे!

ज़रूर पढ़ें

महाराष्ट्र में पिछले कुछ दिनों से सियासी उठापटक चल रहा हैं. उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पद का कुर्सी पहले ही खो चुके हैं. एकनाथ शिंदे बीजेपी के साथ मिलकर वहां पर सरकार भी बना चुके हैं. अब सबसे अहम सवाल यह है की महा विकास अघाड़ी गठबंधन का क्या होगा? क्योंकि राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग होना है.राष्ट्रपति चुनाव के लिए कांग्रेस और शिवसेना अलग थलग पड़ चुकी हैं,यानी की महा विकास अघाड़ी में दरार पड़ चूका है.

राष्ट्रपति चुनाव में शिवसेना ने NDA उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के समर्थन का ऐलान किया है. इस घोषणा के बाद शिवसेना को अपने सहयोगी कांग्रेस के तंज झेलने पड़ रहे हैं. महाराष्ट्र कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बालासाहेब थोराट ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करने के शिवसेना के रुख पर चिंता व्यक्त की है. बालासाहेब थोराट ने ट्वीट करके शिवसेना के वैचारिक दलबदल पर सवाल उठाया है, जो अभी भी MVA का हिस्सा है.

- Advertisement -

क्या बोले उद्धव ठाकरे

इस मामले पर उद्धव ठाकरे ने मेरी पार्टी आदिवासी समाज के साथ हैं. आगे उन्होंने कहा की “मेरी पार्टी के आदिवासी नेताओं ने मुझसे कहा कि यह पहली बार है कि किसी आदिवासी महिला को राष्ट्रपति बनने का मौका मिल रहा है.” ठाकरे ने कहा, “दरअसल, वर्तमान राजनीतिक माहौल को देखते हुए, मुझे उनका समर्थन नहीं करना चाहिए था, लेकिन हम संकीर्ण मानसिकता वाले नहीं हैं.

कब हैं राष्ट्रपति चुनाव

- Advertisement -

राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को होगा और वोटों की गिनती 21 जुलाई को की जाएगी. चुनाव जीतने पर मुर्मू देश की पहली आदिवासी और दूसरी महिला राष्ट्रपति होंगी. कांग्रेस और TMC समेत देश के प्रमुख गैर-भाजपा समर्थक दलों ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को संयुक्त उम्मीदवार बनाया है.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...