दुनिया के इस देश में क्राइम दर है बेहद कम, धड़ल्ले से बंद की जा रही हैं जेलें

ज़रूर पढ़ें

कई ऐसे देश है जहां क्राइम की संख्या कम होने का नाम ही नहीं लेती. वहीं कई देश ऐसे भी हैं जहां क्राइम का नामों निशान नहीं है

हमारी दुनिया इतनी एडवांस हो चुकी है की इस एडवांस पर्दे के पीछे कई सारे खौफनाक क्राइम होते रहते हैं. क्राइम वह है जो किसी व्यक्ति को आहत पहुंचाती है और देश में किसी प्रकार का विद्रोह करती है. जिसके बाद उस व्यक्ति को कानून के शिकंजे में आना पड़ता है. क्राइम को हम सिर्फ एक वाक्य में नहीं बता सकते. क्राइम वह है जिसमें हम अगर किसी के जुर्म में उसका साथ भी देते हैं तो हमारा साथ देना भी एक बड़ा जुर्म कहलाता है.

भारत में क्राइम की संख्या क्यों बढ़ती जा रही है?

भारत में आए दिन क्राइम की संख्या बढ़ती ही जा रही है अगर महिला शोषण की बात की जाए तो भारत में हर दिन 87 महिलाओं को पुरुष के उत्पीड़न का शिकार होना पड़ता है. ये वो मामले होते हैं जो रजिस्टर किए जाते हैं इससे ज्यादा भी आंकड़े हो सकते हैं क्योंकि कई ऐसे जगह होते हैं जहां महिलाओं की आवाज को बंद कर दिया जाता है. और अगर किसी के हाथों किसी की जान जाने की बात की जाए तो हर दिन भारत में करीब 80 मौतें होती हैं.

आखिरकार कब ये दुनिया होगी क्राइम मुक्त?

कई ऐसे देश है जहां क्राइम की संख्या कम होने का नाम ही नहीं लेती. वहीं, कई देश ऐसे भी हैं जहां क्राइम को करने से पहले मुजरिम 10 बार सोचता है. और इन देशों में इस प्रकार क्राइम की संख्या घट रही है कि यहां के कारागारों दरवाजे लगातार बंद किए जा रहें हैं. पूरी दुनिया की बात की जाए तो विश्व भर में महिला उत्पीड़न की संख्या 1400 के पार जा चुकी है जो की एक दिन के हिसाब से है. जिसमें सबसे ज्यादा महिला उत्पीड़न केस की संख्या बोटस्वाना देश से सामने आता है.

क्राइम को लेकर उठ रहे सवाल

आप सबके मन में एक ही सवाल उठ रहा होगा कि क्या इन क्राइम की संख्या कभी कम होगी? आखिरकार कब हम क्राइम मुक्त दुनिया में खुलकर सांस ले पाएंगे? लेकिन आपको बता दें की एक ऐसा देश भी है जहां क्राइम की संख्या इस कदर घट रही है की वहां के कारागार को धड़ल्ले से बंद किया जा रहा है? चलिए जानते हैं आखिरकार यह देश है कौन?

- Advertisement -

इस देश में गिरा क्राइम का ग्राफ

इस दुनिया में ज्यादातर देश हो रहे क्राइम से परेशान हैं. किसको कम करने के लिए जगह जगह सीसीटीवी कैमरा और पुलिसबल की संख्या बढ़ाई जाती है ताकि, क्राइम की संख्या में कमी दिखाई दे. लेकिन ये कम होने का नाम ही नहीं लेता. आपको यह बात जानकर बेहद हैरानी होगी कि दुनिया में ऐसा देश मौजूद है जहां जुर्म की संख्या इस कदर घट रही है कि वहां के जेलों पर ताला लगाया जा रहा है. जी हां हम बात कर रहे हैं नीदरलैंड की जहां कई जेले बंद हो चुकी है और जितनी भी खुली हुई है वह बिल्कुल खाली है.

यहां की सरकार का दबदबा इस कदर बना हुआ है कि यहां कोई भी व्यक्ति क्राइम की तरफ दस्तक नहीं देता. यहां क्राइम का दर इतना कम हो चुका है की मुजरिमों को रखने के लिए जेलों की आवश्यकता नहीं होती.

नीदरलैंड में क्या है क्राइम का दर?

स्टेटिस्टा रिसर्च डिपार्टमेंट के रिपोर्ट अनुसार नीदरलैंड में, साल 2021 में प्रति 1 लाख की जनसंख्या पर लगभग सिर्फ 53 क्राइम ही हुए थे. साथ ही साल 2020 में ये 1 लाख पर 58 का था. पिछले 2 दशकों में नीदरलैंड का क्राइम का ग्राफ लगातार घटता ही जा रहा है. और अगर साल 2016 की बात की जाए तो ये क्राइम रेट सबसे कम था, जब हर 1 लाख की आबादी पर नीदरलैंड में केवल 51 लोगों ने ही क्राइम किया था. साथ ही ये जानकर आप चौक जायेंगे की यहां बड़े क्राइम नहीं बल्कि छोटे मोटे केस को दर्ज किया जाता है. 

- Advertisement -

Latest News

PM मोदी से आम आदमी कैसे कर सकता है बात? जाने नंबर, एड्रेस से लेकर ईमेल आईडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतने लोकप्रिय हैं कि उनके सोशल मीडिया साइट्स पर करोड़ो फॉलोवर्स हैं. ऐसे में उनसे जुड़े...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...