मुजफ्फरपुर कॉल सेंटर कांड का आरोपी उगलेगा सच! जाने 100 लड़कियों के साथ क्या हुआ?

ज़रूर पढ़ें

मुजफ्फरपुर में नौकरी दिलाने के नाम पर 100 से ज्यादा युवतियों के साथ यौन शोषण मामले में बड़ा सच सामने आया है. मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के बाद कई खुलासे होंगे 

बिहार : मुजफ्फरपुर में नौकरी दिलाने के नाम पर यौन शोषण मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. आरोप है की डीबीआर नाम की फर्जी मार्केटिंग कंपनी ने 100 से ज्यादा लड़कियों को नौकरी के नाम पर उनका शोषण किया है. कंपनी के दावे में फेसबुक के जरिये नौकरी देने और अच्छे पैसे मिलने की बात कही जाती थी. आरोप के मुताबिक लड़कियों के ज्वाइन करने के बाद उनके साथ जबरदस्ती शारीरिक संबंध बनाया जाता और फिर उनका उत्पीड़न किया गया. बता दें की इस मामले के मुख्य आरोपी कहे जाने वाले तिलक कुमार की गिरफ्तारी हो गई है.

- Advertisement -

क्या है पूरा मामला?

डीबीआर नाम की फर्जी मार्केटिंग कपंनी एक कॉल सेंटर चलाती थी. इसके जरिए एक गिरोह लड़कियों के साथ उत्पीड़न करता था. लड़कियों को फेसबुक के जरिए फसाने के बाद उसके साथ शारीरिक संबंध बनाने का दवाब डाला जाता था. लड़की अगर विरोध करती थी तो उसे बेरहमी से पीटा जाता था.

इस मामले में नौकरी के नाम पर दरिंदगी ने सारी हदें पार कर दी. लड़कियों को बेल्ट से भी मारा गया जबकि थप्पड़ से पिटाई होती थी. 

पीड़िता ने सुनाई आपबीती!

एक पीड़ित लड़की ने इस पूरे स्कैंडल पर सच्चाई सबके सामने रखी और बताया की उसे छपरा से मुजफ्फरपुर बुलाकर फ्रॉड कॉल करने के लिए ट्रेनिंग देकर उसे एक ऑफिस में बिठा दिया. 

- Advertisement -

पीड़िता ने बताया की आरोपी का यौन शोषण भी करता था और प्रग्नेंट होने पर उसका गर्भपात करा देता था. इससे सुनने के बाद हर तरफ हड़कंप मच गया. दावे अनुसार 100 से ज्यादा लड़कियां इस जालसाजी में फंस गई हैं. मामले पर मुजफ्फरपुर के अहियापुर थाने में 5-6 लोगों के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज की गयी है.

मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी से खुलेंगे राज!

इस मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है. जांच हुई और बिहार से लेकर उत्तरप्रदेश के गोरखपुर तक छापेमारी चला और मुख्य आरोपी तिलक सिंह की गिरफ्तारी हो गई. यहीं नहीं इस डरावने स्कैंडल में नोएडा तक एसआईटी के जांच की आंच आ गयी है. 

मुख्य आरोपी बताया जाने वाले तिलक सिंह के चंगुल में फसने के बाद आशंका है की कई बड़े खुलासे होंगे. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस कंपनी पर पहले भी कई बड़े आरोप लग चुके हैं जबकि छापेमारी भी हुई है. बहरहाल SDPO विनीता सिन्हा ने बताया कि यह मामला दो साल पहले का है. डीबीआर कंपनी और उसके आरोपियों पर एफआईआर दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गई है.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...