UKRAINE ने भारत से मांगी मदद, RUSSIA के आक्रमण के बिच PM MODI से की गई अपील

ज़रूर पढ़ें

नई दिल्ली (भारत) यूक्रेन-रूस विवाद को कंट्रोल करने में अहम योगदान दे सकता है. हम पीएम नरेंद्र मोदी से गुजारिश करते हैं कि वह तत्काल रूस के राष्ट्रपति पुतिन और हमारे राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की से संपर्क करें

यूक्रेन में मंजर और हालात बेहद खराब हैं. रूस के साथ जुबानी जंग ख़त्म हो गई है लेकिन तबाही का आगाज हो चूका है.

- Advertisement -


24 फरवरी 2022 की सुबह रूस से एक बड़ा हमला बोलते हुये यूक्रेन को निशाना बनाया और मुल्क के अलग अलग शहरो में लगातार मिसाइलें और टैंकर से हमला कर रहा है.

RUSSIA-UKRAINE CONFLICT WAR

अबतक यूक्रेन में लगभग 7 लोगो की मौत हो चुकी है. यहां घायल होने की संख्या की पुष्टि की बता करे तो वो अभी 9 बताये जा आरहे हैं लेकिन आशंका है की, अभी कई और मौतें हो सकती है जहाँ घायलों की संख्या बढ़ सकती है.


अबतक चुप्पी साढ़े हुये भारत का यूक्रेन और रूस के तनाव पर कोई टिपण्णी नहीं आई थी. लेकिन इन सब में तबाही की मार खा रहा यूक्रेन भारत को हस्तक्षेप करने की गुहार लगा रहा है.

- Advertisement -
रूस द्वारा यूक्रेन में मिसाइलें और टैंकर से हमला


उधर रूस हर पैमाने पर आक्रामक हो चूका है जहाँ इस जंग में अमेरिका भी टिका टिपण्णी कर रहा है, जो बाइडन ने अपनी विकराल सेना को यूक्रेन की मदद के लिए भेज चूका है.


सुबह से हीं यूक्रेन में मिसाइल से हुये नुकसान की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तहलका मचा रहा है.


बता दें की भारत ने यूक्रेन में मौजूद लोगों के लिए नई एडवाइजरी भी जारी कर दी है. जहाँ पिछले काफी दिनों से भारत लगातार भारतियों को आगाह करते हुये सुरक्षा के लिहाज से एडवाइजरी दे चूका है, वहीँ अबतक 242 यात्रियों को भारत लाया गया.

जहाँ हाल में भारत ने ADVISORY में कहा कि स्थिति अभी खराब है, ऐसे में जहां हैं, वहीं रहें. लोगों से अपने घरों, हॉस्टल आदि में ही रुके रहे. साथ ही कहा गया है कि जो लोग यूक्रेन की राजधानी कीव या वेस्टर्न कीव की तरफ गए हैं तो वापस अपने घरों की तरफ लौट जाएँ.

यूक्रेन-रूस विवाद


इस बिच अब यूक्रेन के राजदूत ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हस्तक्षेप करने की गुजारिश की है. यूक्रेन के राजदूत इगोर पोलखा (Igor Polikha) ने कहा कि भारत और रूस के संबंध अच्छे हैं.

नई दिल्ली (भारत) यूक्रेन-रूस विवाद को कंट्रोल करने में अहम योगदान दे सकता है. हम पीएम नरेंद्र मोदी से गुजारिश करते हैं कि वह तत्काल रूस के राष्ट्रपति पुतिन और हमारे राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की से संपर्क करें.


जबकि इस बिच आपकी जानकारी के लिए बता दे भारत अबतक बिलकुल निष्पक्ष यानी नूट्रल रहा है.

ऐसे में गुरुवार सुबह हीं विदेश मंत्रालय की तरफ से बयां में कहा गया की भारत का स्टैंड इस जंग पर न्यूट्रल है और उनको शांतिपूर्ण समझौते की उम्मीद है.


यहां आपको बता दे कि बीते दिनों उक्रेन ने भारत का जिक्र भी किया था जहाँ उन्हें उम्मीद है की भारत भी यूक्रेन और रूस मसले पर अपना पक्ष रखे.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...