राष्ट्रमंडल खेलों में जाने वाले खिलाड़ियों से प्रधानमंत्री Modi ने कि वर्चुअल बातचीत, कहा- कोई नहीं टक्कर में, कहां पड़े हो चक्कर में..

ज़रूर पढ़ें

राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन बर्मिंघम में 28 जुलाई शुरू होने वाले है. कॉमनवेल्थ गेम्स मे 72 देशों के 5 हजार से ज्यादा खिलाड़ी हिस्सा लेने वाले हैं, जिसमें भारत के 215 खिलाड़ी भाग लेते नजर आयेंगे

राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन बर्मिंघम में 28 जुलाई शुरू होने वाले है. कॉमनवेल्थ गेम्स मे 72 देशों के 5 हजार से ज्यादा खिलाड़ी हिस्सा लेने वाले हैं, जिसमें भारत के 215 खिलाड़ी भाग लेते नजर आयेंगे. ऐसे में भारतीय खिलाड़ियों से आज प्रधानमंत्री मोदी ने बातचीत की और उन्हें हिम्मत देते हुये खेल पर फोकस करने के लिए कहा. आपको बता दें कि खेल के महाकुम्भ का ये आयोजन 8 अगस्त तक चलेगा. बर्मिंघम में खेले जा रहे राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारत के कुल 215 एथलीट 19 खेलों के 141 स्पर्धाओं में भाग लेंगे.

- Advertisement -

”भारतीय खिलाडियों के पास दुनिया में छा जाने का अवसर”

ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भाग लेने वाले भारतीय खिलाड़ियों से बात की. यहां प्रधानमंत्री ने पहली बार बड़े टूर्नामेंट में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों से कहा- मैदान बदला है, आपका मिजाज नहीं, आपकी जिद नहीं. इसके साथ हीं पीएम मोदी ने खिलाड़ियों को शुभकामनायें भी दी.

इन खेलों की तैयारियों और कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय खिलाड़ियों के रवाना होने से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने सभी प्लेयर्स से वर्चुअल बातचीत करते हुये उन्हें कहा कि भारतीय खिलाड़ियों के पास यह दुनिया पर छा जाने का अवसर है. उन्होंने खिलाड़ियों से कहा कि समय की कमी के कारण हम आमने-सामने नहीं हो पाए हैं, लेकिन आप जब वहां से लौटेंगे तो हम जरूर मिलेंगे.

- Advertisement -

”राष्ट्रमंडल खेलों में तिरंगा फहराते हुए देखना ही अपना लक्ष्य रखें”

खिलाडियों को बिना किसी स्ट्रेस के गेम पर फोकस करते हुये पीएम मोदी ने खिलाड़ियों को पदक जीतने की टेंशन न लेने की भी बात कि साथ हीं उन्होंने कहा कि वो इन खेलों का आनंद लेते हुए अपना सम्पूर्ण समर्पण करें और राष्ट्रमंडल खेलों में तिरंगा फहराते हुए देखना ही अपना लक्ष्य रखें.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बर्मिघम राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने जा रहे भारतीय खिलाड़ियों से कहा कि आप लोगों को क्या करना है, कैसे खेलना है, इसके आप एक्सपर्ट हैं. मैं बस यही कहूंगा कि जी भर के खेलिएगा, जमकर खेलिएगा, पूरी ताकत से खेलिएगा और बिना किसी टेंशन के खेलिएगा. आपको ‘कोई नहीं है टक्कर में, कहां पड़े हो चक्कर में ’ इसी तेवर के साथ खेलना है.

पहली बार हिस्सा ले रहे खिलाडियों से पीएम मोदी ने कि बात

पीएम मोदी ने इस वर्चुअल बातचीत के दौरान पहली बार इन खेलों का हिस्सा बन रहे खिलाड़ियों को भी संबोधित किया और कहा,’जो पहली बार बड़े अंतरराष्ट्रीय मैदान पर उतर रहे हैं, उनसे मैं कहूंगा कि मैदान बदला है, आपका मिजाज़ नहीं, आपकी जिद नहीं. लक्ष्य वही है कि तिरंगे को लहराता देखना है, राष्ट्रगान की धुन को बजते सुनना है. इसलिए दबाव नहीं लेना है, अच्छे और दमदार खेल से प्रभाव छोड़ना है. आज का ये समय भारतीय खेलों के इतिहास का एक तरह से सबसे महत्वपूर्ण कालखंड है.’

उन्होंने कहा,’आज आप जैसे खिलाड़ियों का हौसला भी बुलंद है, ट्रेनिंग भी बेहतर हो रही है और खेल के प्रति देश में माहौल भी जबरदस्त है. आप सभी नए शिखर चढ़ रहे हैं, नए शिखर गढ़ रहे हैं. जो 65 से ज्यादा एथलीट पहली बार इस टूर्नामेंट में हिस्सा ले रहे हैं, मुझे विश्वास है कि वो भी अपनी जबरदस्त छाप छोड़ेंगे.’

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...