प्रधानमंत्री Modi ने आज जिस बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का किया उद्घाटन, जान लीजिए उसकी विशेष खासियत

ज़रूर पढ़ें

”ये एक्सप्रेस-वे बुंदेलखंड की गौरवशाली परंपरा को समर्पित है. बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे से चित्रकूट से दिल्ली की दूरी तो 3-4 घंटे कम हुई ही है, लेकिन इसका लाभ इससे भी कहीं ज्यादा है. ये एक्सप्रेसवे यहां सिर्फ वाहनों को गति नहीं देगा, बल्कि ये पूरे बुंदेलखंड की औद्योगिक प्रगति को गति देगा”

आज प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तरप्रदेश के बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का लोकार्पण किया. 14,850 करोड़ से बना ये UP का छठा एक्सप्रेस-वे 296 किमी लंबा है. ऐसे में पूरे देश में बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे से जुडी ख़बरें सुर्खियां बन रही है. इसके साथ हीं बुंदेलखंड के लोगों में आज खूब उत्साह दिखा जहाँ पीएम मोदी और योगी आदित्यनाथ ने सभा को सम्बोधन किया. इसके साथ हीं जनता ने भी अपनी ताकत दिखाते हुये मोदी-योगी का नारा लगाने से पीछे नहीं रहे.

- Advertisement -

आज बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के उद्घाटन के बाद पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा कि ये एक्सप्रेस-वे बुंदेलखंड की गौरवशाली परंपरा को समर्पित है. बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे से चित्रकूट से दिल्ली की दूरी तो 3-4 घंटे कम हुई ही है, लेकिन इसका लाभ इससे भी कहीं ज्यादा है. ये एक्सप्रेसवे यहां सिर्फ वाहनों को गति नहीं देगा, बल्कि ये पूरे बुंदेलखंड की औद्योगिक प्रगति को गति देगा.

यहां जालौन में बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का उद्घाटन करने के बाद आयोजित सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कई खासियत पर बात कि साथ हीं पीएम मोदी ने कहा कि बुंदेलखंड के सभी भाई-बहनों को आधुनिक बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के लिए बहुत बहुत बधाई। ऐसे में आइये जानते हैं कि बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे से क्या सुविधा मिलेगी और इसकी क्या खासियत है.

6 टोल प्लाजा, 4 लेन

- Advertisement -

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे ने बुंदेलखंड के लोगों को जितनी बड़ी सौगात दी है वैसे हीं इससे जुड़े हर नगर को भी बड़ा तोहफा दिया है. इस परियोजना पर जबसे काम शुरू तभी से इसकी चर्चा तेज हो गई थी.

यहां प्रधानमंत्री ने जिस बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का आज उद्घाटन किया है उसके के निर्माण से चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर और जालौन के लोगों के लिए दिल्ली का सफर आसान हो गया है. ऐसे में इस एक्सप्रेस-वे पर 250 से ज्यादा छोटे पुल, 15 से ज्यादा फ्लाईओवर, 6 टोल प्लाजा और 12 से ज्यादा बड़े पुल और 4 रेल पुल बनाए गए हैं.

बुंदेलखंड से दिल्ली अब बस 6 घंटे दूर

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की लंबाई 296 किलोमीटर है. फ़िलहाल इसे 4 लेन का बनाया गया है. लेकिन सरकार कि योजना के तहत भविष्य के लिए एक और प्लान तैयार कर लिया है. जहाँ एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ अतिरिक्त जमीन है, ऐसे में भविष्य में अगर गाड़ियों की आवाजाही बढ़े तो इसको चौड़ा कर 6 लेन तक बढ़ाया सकता है.

फिलहाल चित्रकूट से दिल्ली पहुंचने में लगभग 700 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती थी, और यात्रा में करीब 14 घंटे का समय लगता था. लेकिन बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे बन जाने के बाद ये दूरी सिर्फ 630 किलोमीटर ही रह जाएगी और दिल्ली से चित्रकूट का सफर 6 घंटे में तय हो सकेगा. यह एक्सप्रेस-वे 8 नदियों बागेन, केन, श्यामा, चंद्रावल, बिरमा, यमुना, बेतवा और सेंगर से होकर गुजरता है. इस एक्सप्रेस-वे पर लोगों की सहूलियत के लिए 4 जन सुविधा केंद्र बनाए गए हैं. इसके अलावा 4 पेट्रोल पंप भी बनाए जाएंगे.

2020 में रखी गई थी नींव

योगी सरकार का दावा है कि विपक्ष कि खराब व्यवस्था को अब बीजेपी सरकार बेहतरीन बना रही है. बीते कुछ सालों में लगातार उत्तरप्रदेश में विकास हो रहा है. हालाँकि मौजूदा समय में बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे परियोजना कि अगर बात करें तो इसे फरवरी 2023 में पूरा होना था, लेकिन काम 8 महीने पहले ही पूरा हो गया.

ऐसे में इस बात पर योगी सरकार कि जमकर तारीफ हो रही है. वहीँ प्रधानमंत्री मोदी ने भी आज अपने सम्बोधन में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यशैली को बेहतरीन बताया था.

आपको बता दें कि बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के परियोजना की नींव प्रधान मंत्री द्वारा 2020 में रखी थी और यह परियोजना अब पूरी हो चुकी है. 296 किलोमीटर लंबा बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे राज्य में 14,850 करोड़ रुपये के निवेश से निर्मित चार लेन के साथ परिवहन सेवाओं की सुविधा प्रदान करेगा.

- Advertisement -

Latest News

PM मोदी से आम आदमी कैसे कर सकता है बात? जाने नंबर, एड्रेस से लेकर ईमेल आईडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतने लोकप्रिय हैं कि उनके सोशल मीडिया साइट्स पर करोड़ो फॉलोवर्स हैं. ऐसे में उनसे जुड़े...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...