भारत के G-20 की मेजबानी पर पाकिस्तान-चीन की चालबाजी, उधर ब्रिटेन ने किया बड़ा दावा

ज़रूर पढ़ें

भारत के G-20 की मेजबानी पर पाकिस्तान और चीन एक बार फिर अंतराष्ट्रीय स्तर पर झूठ की राजनीति कर रहा हैं. पीएम मोदी ने इन दोनों हीं मुल्कों की इस चाल पर करारा जवाब दिया है. वहीँ इस बिच ब्रिटेन में भारत को लेकर जो ख़बरें छप रही है उसकी खूब चर्चा हो रही है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) बीते 3 सितंबर को चीन और पाकिस्तान की साजिश का खुलासा कर दिया. 8 और 9 सितंबर को दिल्ली में आयोजित होने वाले G-20 समिट पर दुनियाभर में इसकी चर्चा है. बता दें कि G-20 में शामिल देशों के राष्ट्राध्यक्ष दिल्ली पहुंचेंगे. इस बिच भारत अपने मेहमानों के स्वागत के लिए पूरी दिल्ली को दुल्हन की तरह सजा रहा है. सुरक्षा के मद्देनजर चप्पे-चप्पे पर पुख्ता इंतजाम किये गए हैं. हालाँकि भारत की इस तर्रकी को देखकर पाकिस्तान और चीन एक बार फिर अंतराष्ट्रीय स्तर पर झूठ की राजनीति कर रहा हैं. पीएम मोदी ने इन दोनों हीं मुल्कों की इस चाल पर करारा जवाब दिया है. वहीँ इस बिच ब्रिटेन में भारत को लेकर जो ख़बरें छप रही है उसकी खूब चर्चा हो रही है.

चीन और पाकिस्तान को झटका

दिल्ली में होने वाले G-20 के ग्रैंड समिट में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के शामिल होने पर अटकलें तेज हो गई है. सूत्रों के मुताबिक शी चिनपिंग आएंगे या नहीं इसपर अभी भी सवाल है. हालाँकि चीन और पाकिस्तान फिलहाल G-20 की अध्यक्षता कर रहा भारत की कामयाबी पर तकलीफ में है. चीन और पाकिस्तान लगातार आपत्ति जता रहा है. कश्मीर से पाकिस्तान को तो चीन को अरुणाचलप्रदेश में G-20 की बैठक से तकलीफ हुई. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण के दौरान दोनों हीं मुल्कों को करारा जवाब दिया है. पीएम मोदी ने अंतराष्ट्रीय स्तर पर गलत सन्देश देने की कोशिश करने वाले चीन और पाकिस्तान की पोल खोल दी है. पीएम मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने बीते दिनों पूरी दुनिया को सन्देश दिया है की G-20 की अध्यक्षता कर रहा भारत अरुणाचल प्रदेश हो या कश्मीर कहीं भी बैठक कर सकता है. भारत की संस्कृति और विविधता को दर्शाने के लिए यहां की सरकार देश के अलग अलग हिस्सों में जी-20 को मीटिंग आयोजित की है.

पकिस्तान और चीन की हालात नासाज

पाकिस्तान उन मुल्कों में है जिसने जुर्म के रास्ते को हमेशा चुना है. दहशतगर्दी का प्रशिक्षण देने वाला पाकिस्तान की अर्थव्यस्था बाद से बदतर है. खाने को लाले पर गए हैं. जनता के बिच खाने पिने के लिए लूटमार चल रही है. पाकिस्तान जी-20 का ना हिस्सा है और नाहीं भारत, पाकिस्तान को इतनी अहमियत देता है. ऐसे में चीन की बात करे तो ये भी अंतराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग पड़ रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन की अर्थव्यवस्था अंतराष्ट्रीय पर काफी धीमी पड़ गई है. चीनी समाचार पत्र इकोनॉमिक ऑब्जर्बर के एक लेख जिसका शीर्षक ”कोई भी माँ अपने बच्चों के लिए बिना चावल खाना नहीं बना सकती”में चीन के प्रांतों की तीव्र समस्या का उल्लेख किया गया है.

मोदी के बयान और ब्रिटेन मीडिया का दावा

भारत की बढ़ती अर्थव्यवस्था की जानकारी पूरी दुनिया को है. भारत अर्थव्यवस्था के मामलें में दुनिया का 5वां देश है. बाईट दिनों पीएम मोदी ने साफ़ सन्देश देते हुए दावा करते हुए कहा था की भारत अगले पांच साल में दुनिया का तीसरा अर्थव्यवस्था वाला देश बन जायेगा. वहीँ ब्रिटेन के मशहूर अखबार द टेलीग्राफ ने भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर एक लेख लिखा है. इस अखबार में दावा करते हुए लिखा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शासन में राजनितिक स्थिरता है. इसके कारण भारत क़ानूनी सुधारों, मुलभुत कल्याण योजनाओं में सुधार के साथ साथ इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ावा देने में सफलता हासिल कर रहा है.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...