पीएम मोदी अचानक क्यों पहुंचे नए संसद भवन? विपक्ष को मिली सबसे बड़ी चुनौती

ज़रूर पढ़ें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीते 30 मार्च को नए संसद भवन पहुंचे थे. इसका निर्माण का काम तेजी से बढ़ रहा है. पीएम के नए संसद पहुँचने के कई मायने निकलकर सामने आ रहे हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) बीते 30 मार्च को नए संसद भवन पहुंचे थे. देश का नए संसद भवन के निर्माण का काम तेजी से बढ़ रहा है. इस बिच पीएम का पहुंचना हर किसी को आश्चर्यचकित करता है. प्रधानंमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने यहां एक घंटे से ज्यादा का समय बिताया और भवन का निरीक्षण किया.

- Advertisement -

हालाँकि इस बिच के इस काम के बाद देशवासियों को नया सन्देश गया है. जहाँ एक तरफ विपक्ष राहुल गाँधी की सदस्यता जाने पर हंगामा कर रही है. मौजूदा संसद में बवाल मच रहा है. वहीँ पीएम मोदी (Prime Minister Narendra Modi) हर दिन किसी नए प्रोजेक्ट की तरफ बढ़ जाते हैं. इस बिच आइये जानते हैं कि पीएम के नए संसद पहुँचने के क्या मायने हैं?

पीएम ने किया सरप्राइज दौरा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगामी संसद परिसर में जैसे हीं पहुंचे वो निरक्षण करना शुरू कर दिया। उन्होंने इस घंटे से ज्यादा समय के दौरान नए संसद के विभिन्न कार्यों को समझा. इस दौरान उन्होंने नए संसद भवन का बारीकी से निरीक्षण किया. बता दें कि प्रधानमंत्री दिसंबर 2020 में प्रधानमंत्री मोदी ने आधुनिक सुविधाओं वाले नए संसद भवन की आधारशिला रखी थी. जबकि साल 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार की उपलब्धि में ये भी काम सम्मिलित हो गया है. जिसे सराहा जा रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी का मजदूरों के साथ ख़ास बातचीत

PM मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के साथ लोकसभा स्पीकर ओम बिरला भी नए संसद में पहुंचे थे. PM ने आगामी संसद के दोनों सदनों में तैयार की जा रही फैसिलिटी का बारीकी से जायजा लिया। उन्होंने संसद के निर्माण में लगे मजदूरों के साथ बातचीत भी की। निरीक्षण के दौरान श्रमिकों से बातचीत करते हुए उनके योगदान की जमकर तारीफ की. इस बिच गौर करने वाली ये है कि पीएम जिस तरीके से कारीगरों और मजदूरों से मिलते हैं और उनका उत्साह बढ़ाते हैं. वो भी एक बड़ा मुद्दा बन जाता है. इससे सीधे तौर पर बीजेपी को फायदा होता है. वहीँ पीएम के इस सॉफ्ट साइड को जहाँ विपक्ष महज एक ढोंग बताता है.

- Advertisement -

बीजेपी उन्हें वाराणसी का वो दृश्य याद दिला देती है, जब पीएम (Prime Minister Narendra Modi) ने वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ कॉरिडोर को तैयार करने वाले श्रमिकों पर फूल बरसाकर उनका अभिवादन किया था. उनके साथ बैठकर खाना खाया.

मोदी सरकार की उपलब्धियों का ब्योरा

केंद्र सरकार ने 2019 में सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना शुरू की थी, जिसमें नए संसद भवन का निर्माण शामिल है. दिसंबर 2020 को पीएम मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने इसकी आधारशिला रखी थी. जिसके आधार पर पूरे प्रोजेक्ट की लागत 20 हजार करोड़ रुपए है. हालाँकि नए संसद भवन का निर्माण में अब फिनिशिंग की जरुरत है. ऐसे में लोकसभा चुनावों में BJP इसे भी याद दिलाने में पीछे नहीं हटेगी. जबकि श्री राम मंदिर अयोध्या का भी निर्माण बहुत जल्द पूरा होने वाला है. जहाँ श्रीराम का ये भव्य मंदिर जनवरी 2024 में बनकर तैयार हो जायेगा.

ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा की मोदी सरकार (Prime Minister Narendra Modi) में बन रहे इन ऐतिहासिक जगहों का मायना काफी अधिक है. जिससे जनता एक जुड़ाव महसूस करती है. वहीँ विपक्ष कोशिश के बाबजूद इन मुद्दों को धूमिल नहीं कर पा रही है.

- Advertisement -

Latest News

अनंत अंबानी और राधिका मर्चेंट कब आये करीब? कैसे शुरू हुआ प्यार का सफर?

अनंत अंबानी और राधिका मर्चेंट गुजरात की ग्रैंड प्री-वेडिंग बैश जामनगर में 1-3 मार्च तक चलेगा। ऐसे में अंबानी...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...