बजरंग दल कार्यकर्त्ता की हत्या मामले पर आया नया मोड़, कट्टरपंथी 6 साल से कर रहे थे HARSHA के हत्या की प्लानिंग!

ज़रूर पढ़ें


“हिंदुत्व आतंकवादी समूह के सदस्य हर्ष ने पैगंबर मोहम्मद और अल्लाह को निशाना बनाते हुए आपत्तिजनक पोस्ट डाले हैं और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर पवित्र काबा की मॉर्फ्ड तस्वीरें साझा की हैं. हम शिवमोगा के लोगों से अनुरोध करते हैं कि उनके खिलाफ नजदीकी पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज करें और इसे ‘उचित उपचार’ भी दें. करावली (तटीय कर्नाटक) के भाइयों, कृपया विभिन्न पुलिस स्टेशनों में हर्षा के खिलाफ कई शिकायतें दर्ज करें ताकि वह अपना बचा हुआ जीवन पुलिस स्टेशन और अदालत के अंदर बिताए. उसके बारे में अधिक जानकारी के लिए इनबॉक्स में एक टेक्स्ट छोड़ें. इस छवि और जानकारी को साझा करें”

कर्णाटक में हिजाब मामले पर पोस्ट करने वाले राज्य के हीं बजरंग दाल कार्यकर्त्ता की हत्या कर दी जाती है. देश के सभी बुद्धिजीवी शांत और मौन पड़े हुयें हैं. हिजाब विवाद पर चीख चीख कर हक़ की बात करने वाले तथकथित जानकार की चुप्पी ये बयां करती है, कि किस कदर वो एकतरफ़ा प्रोपेंगेंडा चलाने का काम करते हैं. किस कदर देश में नफरत फैलाने का काम करते हैं.

- Advertisement -


बीते 20 फरवरी 2022 को कर्नाटक के शिवमोगा में हर्षा नामक बजरंग दल कार्यकर्ता की रात 9 बजे चाकू गोद कर हत्या की गई.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 23 साल के नवयुवक ने अभी हाल ही में फेसबुक पोस्ट पर शिक्षा संस्थानों में हिजाब का विरोध कर अपनी बात रखी.

इस मामले में सोशल मिडिया पर कयास लगाए जा रहे हैं की हिजाब मामले पर अपनी बात रखने का खामियाजा उस 23 साल के मासूम युवक को भगतना पड़ा. कट्टरपंथियों ने उसे अपना निशाना बनाकर उसकी हत्या कर दी.

- Advertisement -
BAJRANG DAL PROTEST FOR HARSHA


बिगड़ते हालात के बिच इलाके में धरा 144 लागू कर दिया गया है. जहाँ पुलिस प्रशासन बिलकुल अलर्ट पर है की शहर में किसी तरीके की सांप्रदायिक हिंसा ना भड़के.

बजरंग दल के कार्यकर्त्ता की हत्या के बाद हिंदू संगठन सड़कों पर आकर अपना आक्रोश जाहिर कर रहे हैं.

इस बिच हर्षा हत्याकांड में सनसनीखेज खबरे आ रही हैं, जिसके मुताबिक़ कहा जा रहा है की 23 वर्षीय बजरंग दल कार्यकर्त्ता करीबन 6 साल से कट्टरपंथियों और जिहादियों के निशाने पर थे.

सोशल मीडिया में कई ऐसे पोस्ट सामने आएं हैं जिसने हिंदी धर्म से जुड़े संगठनो के बिच भारी आक्रोश पैदा कर रहा है.

फिलहाल तक ऐसा दिख रहा था की हो ना हो हर्षा की हत्या हिजाब विवाद पर अपना बिचार रखने की वजह से हुई. लेकिन इन सब में बातें खुलकर निकल कर आ रही है कि, हर्षा को बीते कई सालों से टारगेट पर रखा गया था.

BAJRANG DAL PROTEST


बता दे कि 23 फरवरी को विश्व हिंदू परिषद ने ऐलान करते हुये कहा है की हर्षा हत्याकांड में राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन किये जायेंगे.


यहां सोशल मीडिया में साल 2015 का एक पोस्ट सामने आया है जिसे मंगलुरु मुस्लिम द्वारा साझा किया गया.


उसमे लिखा गया-

“हिंदुत्व आतंकवादी समूह के सदस्य हर्ष ने पैगंबर मोहम्मद और अल्लाह को निशाना बनाते हुए आपत्तिजनक पोस्ट डाले हैं और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर पवित्र काबा की मॉर्फ्ड तस्वीरें साझा की हैं.

हम शिवमोगा के लोगों से अनुरोध करते हैं कि उनके खिलाफ नजदीकी पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज करें और इसे ‘उचित उपचार’ भी दें.

करावली (तटीय कर्नाटक) के भाइयों, कृपया विभिन्न पुलिस स्टेशनों में हर्षा के खिलाफ कई शिकायतें दर्ज करें ताकि वह अपना बचा हुआ जीवन पुलिस स्टेशन और अदालत के अंदर बिताए.
उसके बारे में अधिक जानकारी के लिए इनबॉक्स में एक टेक्स्ट छोड़ें. इस छवि और जानकारी को साझा करें.”

ऐसे में में लाइव अदालत का दावा है कि हर्षा मुस्लिम कट्टरपंथियों की हिट लिस्ट में थे. उनके विरुद्ध इस ग्रुप ने फेसबुक पर पोस्ट किया था.

TWEET 2016


यहां साल 2016 में शिवमोगा मुस्लिम नाम के फेसबुक पेज से भी हर्षा को लेकर पोस्ट किये गए जबकि करावली मुस्लिम नाम के अकाउंट से साल 2015 में बजरंग दल कार्यकर्त्ता के खिलाफ निशाना बनाते हुये पोस्ट साझा किये गए.

TWEET 2015


यानी कुल मिलकर सोशल मीडिया में दावे किये जा रहे हैं कि करीबन 6 सालों से हर्षा की कट्टरपंथी हत्या करना चाहते थे, जहाँ अब वो कामयाब हो गए हैं. मौजूदा समय में हर्षा के लिए न्याय की मांग तेज हो गई है, जहाँ हिन्दू धर्म के संगठनो ने जमकर आक्रोश दिखाया है.


यहां आपकी जानकारी के लिए बता दे की हर्षा के शव पोस्टमार्टम हो गया है जहाँ फिलहाल उन्हें उनके घर ले जाया गया है.


इस बिच ध्यान देने वाली बात ये रही कि उनके शव के साथ सैंकड़ों हिंदूवादी लोग दिखे, जिन्होंने इस हत्या का विरोध करते हुये न्याय की मांग की है.

- Advertisement -

Latest News

PM मोदी से आम आदमी कैसे कर सकता है बात? जाने नंबर, एड्रेस से लेकर ईमेल आईडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतने लोकप्रिय हैं कि उनके सोशल मीडिया साइट्स पर करोड़ो फॉलोवर्स हैं. ऐसे में उनसे जुड़े...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...