बमबारी के बीच आधी रात को पीएम मोदी ने दोबारा पुतिन को किया फ़ोन !

ज़रूर पढ़ें

आज आठवें दिन भी रूस और यूक्रेन के बीच जंग जारी है. रूस लगातार यूक्रेन पर बमबारी कर रहा हैं. यूक्रेन का हालात काफी ख़राब हो चूका हैं. इसी बीच एक बार फिर प्रधानमंत्री मोदी ने रूसी राष्ट्रपति पुतिन को फ़ोन किया हैं. पीएम मोदी ने पुतिन से फ़ोन पर यूक्रेन के साथ हो रहे जंग की समीक्षा की हैं. दोनों नेताओं ने यूक्रेन की स्थिति की समीक्षा की, विशेष रूप से खार्किव में जहां कई भारतीय छात्र फंसे हुए हैं। उन्होंने संघर्ष क्षेत्रों से भारतीय नागरिकों की सुरक्षित निकासी पर चर्चा की।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा, ‘दोनों नेताओं ने यूक्रेन की स्थिति की समीक्षा की, खासकर खारकीव की जहां बड़ी संख्या में भारतीय छात्र फंसे हुए हैं. उन्होंने युद्धग्रस्त क्षेत्र से भारतीय नागरिकों की सुरक्षित निकासी पर चर्चा की.’ यह बातचीत ऐसे समय में हुई है, जब यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव में फंसे भारतीयों की सुरक्षित वापसी को लेकर भारत में चिंता का माहौल है. खारकीव में रूसी सेना व्यापक स्तर पर गोलीबारी कर रही है और वहां यूक्रेन की सेना मजबूती से जवाबी कार्रवाई कर रही है.

- Advertisement -

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पुतिन से यह पिछले छह दिनों के भीतर दूसरी बार बातचीत हुई है. पीएम मोदी ने आक्रमण के अगले दिन 25 फरवरी को आखिरी बार रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात की थी, जिसमें उन्होंने ‘हिंसा की तत्काल समाप्ति’ का आह्वान किया था.

पुतिन से बातचीत से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने यहां एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता भी की. बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के अलावा केंद्र सरकार के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे. यूक्रेन से भारतीयों को सुरक्षित वापस लाने के प्रयासों को तेज करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी रविवार से लगातार बैठकें कर रहे हैं. उन्होंने कई मौकों पर कहा है कि यूक्रेन में फंसे भारतीयों को सुरक्षित वापस लाना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है.

करीब 20,000 भारतीयों में से अब तक 6,000 को स्वदेश लाया जा चुका है. यूक्रेन में हालात बिगड़ते देख वहां स्थित भारतीय दूतावास ने छात्रों सहित अपने सभी नागरिकों से तुरंत खारकीव छोड़ने की अपील की है. रक्षा एवं सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारतीय नागरिकों से तत्काल पेसोचिन, बाबाये और बेजलीयुदोव्का पहुंचने को कहा गया है. भारतीय विदेश मंत्रालय ने आश्वासन दिया है कि तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद भारत सरकार यूक्रेन में फंसे अपने हर नागरिक को सुरक्षित वापस लाएगी.

- Advertisement -

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने यूक्रेन में बिगड़ते हालातों के मद्देनजर यूरोपीय संघ के विदेश मामलों के उच्च स्तरीय प्रतिनिधि जोसेप बोरेल, फ्रांस के विदेश मंत्री ज्यां-वेस ली द्रियां और एस्टोनेशियाई विदेश मंत्री इवा-मारिया लिमेट्स से बात की. जयशंकर ने एक ट्वीट में यह जानकारी दी और कहा कि हिंसा का अंत बहुत आवश्यक है. इस बीच, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बताया कि यूक्रेन से निकासी अभियान के तहत अब तक कुल 15 उड़ान भारत आ चुकी हैं। उन्होंने बताया कि अगले 24 घंटे मे 15 उड़ान निर्धारित की गई हैं जिनमें से कुछ रास्ते में हैं। इस अभियान में भारतीय वायु सेना को भी लगाया गया है.

- Advertisement -

Latest News

PM मोदी से आम आदमी कैसे कर सकता है बात? जाने नंबर, एड्रेस से लेकर ईमेल आईडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतने लोकप्रिय हैं कि उनके सोशल मीडिया साइट्स पर करोड़ो फॉलोवर्स हैं. ऐसे में उनसे जुड़े...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...