Maharashtra: Eknath Shinde का स्वागत करने पहुंचें bjp विधायक, उधर Sanjay Raut ने दिए विधानसभा भंग होने के संकेत

ज़रूर पढ़ें

शिवसेना नेता संजय राउत ने भी अब संकेत दे दिए हैं कि हो सकता है कि उद्धव सरकार महाराष्ट्र विधानसभा भंग करने की सिफारिश करेगी. उद्धव सरकार की सत्ता जाने और सियासी संकट के बीच संजय राउत ने माना है कि चिंता बड़ी है

महाराष्ट्र का सियासी पारा फ़िलहाल बेहद तेज है, शिवसेना के बागी सैनिक एकनाथ शिंदे बगावत की ओर बढ़ चुके हैं जहाँ उनके साथ 12 और विधायकों साथ हैं.

- Advertisement -

बता दें कि बीते मंगलवार को शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे और अन्य बागी विधायक जो सूरत के ली मेरिडियन होटल में ठहरे थे, जिसके बाद गुजरात से गुवाहाटी (असम) पहुंच चुके हैं. ऐसे में बीजेपी विधायक उनका स्वागत करने के लिए एयरपोर्ट भी पहुंचे थे. यह शायद पहली बार है कि किसी पश्चिमी राज्य के विधायकों को पार्टी नेतृत्व के खिलाफ विद्रोह के बाद पूर्वोत्तर राज्य में ले जाया जा रहा है.

EKNATH SHINDE

यहां कहीं न कहीं एकनाथ शिंदे ने अपनी ही पार्टी को मुश्किल में डाल दिया है. उनका दावा है कि उन्हें 40 विधायकों का समर्थन प्राप्त है। महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार की स्थिरता पर अनिश्चितता के बीच छोटे दलों और निर्दलीय 29 विधायकों की भूमिका बढ़ गई है.

वहीँ दूसरी तरफ शिवसेना नेता संजय राउत ने भी अब संकेत दे दिए हैं कि हो सकता है कि उद्धव सरकार महाराष्ट्र विधानसभा भंग करने की सिफारिश करेगी. उद्धव सरकार की सत्ता जाने और सियासी संकट के बीच संजय राउत ने माना है कि चिंता बड़ी है.

- Advertisement -

शिवसेना नेता संजय राउत ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ज्यादा से ज्यादा क्या होगा, सत्ता चली जाएगी. लेकिन सत्ता तो आ भी जाती है. इसके साथ ही वह एकनाथ शिंदे के प्रति नरम भी दिखाई दिए. उन्होंने कहा कि एकनाथ शिंदे सालों से हमारे साथ हैं और कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रहे हैं. उनके लिए पार्टी छोड़ना कठिन नहीं होगा. हमारे लिए भी उन्हें अलग करना आसान नहीं है. हमारी एक घंटे तक आज बातचीत हुई है. सभी विधायक शिवसेना में हैं और यहीं रहेंगे.

आपको बता दें कि एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में भाजपा शासित असम में डेरा डाले हुए शिवसेना के बागी विधायकों को अपनी पार्टी के नेतृत्व के खिलाफ ‘कोई शिकायत नहीं’ है, लेकिन सहयोगी कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से उनकी नाराजगी है. बागी विधायकों में से एक संदीपन भुमरे ने मीडिया से बातचीत में कहा कि, ”हमें शिवसेना नेतृत्व के खिलाफ कोई शिकायत नहीं है। हमने अपनी शिकायत मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से की है. एनसीपी और कांग्रेस के मंत्रियों के साथ काम करना मुश्किल हो रहा था.”

गौरतलब है कि राज्य के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को बुधवार को कोरोना हो गया. उन्हें सुबह दक्षिण मुंबई के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

- Advertisement -

Latest News

PM मोदी से आम आदमी कैसे कर सकता है बात? जाने नंबर, एड्रेस से लेकर ईमेल आईडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतने लोकप्रिय हैं कि उनके सोशल मीडिया साइट्स पर करोड़ो फॉलोवर्स हैं. ऐसे में उनसे जुड़े...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...