हिजाब विवाद पर आया Karnataka high court का बड़ा फैसला

ज़रूर पढ़ें

फरवरी महीने में 11 दिन तक मामले में सुनवाई हुई थी. जिसके बाद 25 फरवरी को कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था

karnataka के उड्डुपी जिले से शुरू हुआ हिजाब विवाद, पूरे देश में सियासत का रंग ले चूका था. मामला अभी भी गरमाया हुआ है.

- Advertisement -

ऐसे में स्कूल के अंदर हिजाब पहनने को लेकर मुस्लिम छात्राओं के सभी याचिका पर कर्णाटक हाई कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है.

जी हाँ कर्णाटक के उच्च न्यायलय ने मामले पर बेहद शालीनता से फैसले को राज्य के उन छात्रों के सामने रख दिया जहाँ शिक्षण संस्थानों में शिक्षा के बजाए सियासत और नारेबाजी चल रही थी.

KARNATAKA HC HIJAB VERDICT

आपको बता दें कि इसी साल 2 जनवरी को सबसे पहले पीयू कॉलेज में छात्रों ने मांग की थी कि वो हिजाब पहन कर हीं क्लास करेंगी जबकि कॉलेज के प्रिंसिपल रूद्र गौड़ा ने साफ़ तौर पर सन्देश देते हुये कहा था की, शिक्षा के मंदिर में किसी भी तरीके से मजहबी माहौल नहीं बनने दिया जायेगा.

- Advertisement -

साथ हीं हर एक छात्र यूनिफार्म में हीं क्लास करें. ये मामला धीरे धीरे पूरे देश भर में भूचाल मचाने लगा और मामला कोर्ट तक पंहुचा.

ऐसे में फरवरी महीने में 11 दिन तक मामले में सुनवाई हुई थी. जिसके बाद 25 फरवरी को कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया.


आपको बता दें कि इस मामले की सुनवाई हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस रितु राज अवस्थी, जस्टिस कृष्णा एस दीक्षित और न्यायमूर्ति जेएम खाजी की पीठ ने की थी.


यहां दो पक्ष सामने आएं जहाँ मुस्लिम पक्ष एक तरफ इस बात को लेकर अड़ा रहा की राज्य में स्कूल-कॉलेजों में सिर ढँकने की इजाजत मिलनी चाहिए, जबकि राज्य की ओर से शिक्षण संस्थानों में ड्रेस कोड की मांग की गई.


अब यहां कर्णाटक हाई कोर्ट ने विवादित हिजाब विवाद में फैसला सुनाते हुये कहा है कि हिजाब इस्लाम में कोई अनिवार्य चीज नहीं है. इसलिए सरकार के 5 फरवरी वाले आदेश को अमान्य करने का कोई मामला नहीं बनता है.


यहां कोर्ट ने कहा हिजाब इस्लाम के धार्मिक व्यवहार का हिस्सा नहीं है. कर्नाटक हाईकोर्ट ने कहा कि छात्र-छात्राओं को यूनिफॉर्म उल्लंघन या मनमाने कपड़े पहन कर स्कूल आने का अधिकार नहीं है.


आपको बता दें कि मुस्लिम छात्रों की तरफ से शिक्षा संस्थानों में मजहबी जगह देने की तमाम याचिकाओं को कर्णाटक हिघ्कोर्ट द्वारा खारिज कर दिया, जहाँ संस्थानों में हिजाब पहनने की माँग को लेकर दायर की गई थीं.


मौजूदा समय में इस फैसले के बाद उम्मीद की जा रही है की छात्र High Court के फैसले का सम्मान करेंगे और और अपने भविष्य को सुधरने के कफड़ाम पर आगे बढ़ेंगे और एक बार फिर से कर्णाटक में स्कूल कॉलेजों की रौनक बढ़ेगी.

- Advertisement -

Latest News

PM मोदी से आम आदमी कैसे कर सकता है बात? जाने नंबर, एड्रेस से लेकर ईमेल आईडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतने लोकप्रिय हैं कि उनके सोशल मीडिया साइट्स पर करोड़ो फॉलोवर्स हैं. ऐसे में उनसे जुड़े...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...