दुनिया के इस कोने में है अजीबोगरीब रीति रिवाज! बेहतर दूल्हे की आस में जवान लड़कियां करती हैं कुछ ऐसा जिसे करने के लिए आपकी रुह कांप जाएंगी

ज़रूर पढ़ें

बोराना जनजाति वाले यहां के लोगो में और भी बड़े अजीबो गरीब परंपराओं सहित किस्से और कहानियां मशहूर है

हर कोई चाहता है की उसे एक बेहतर जीवनसाथी या जीवनसंगिनी मिले. विवाह से जुड़े कई रीति रिवाज पुरी दुनिया में अलग अलग संस्कृति में एक दुसरे से भिन्न होती है. इन सब के बीच कई लोग बेहतरीन साथी के लिए शादी से पहले ही कई तरीके की पूजा पाठ से लेकर हर वो चीज करते हैं जिससे की मनोकामना की पूर्ति हो जाए. हम यहां आपको एक ऐसे ही रिवाज के बारे में बताएंगे जो बड़ी ही विचित्र है, जिसको शायद आपने आजतक सुनी ही नहीं होगी. दरअसल दक्षिण अफ्रीका में एक बस्ती ऐसी है जहां की युवतियां अपने लिए मनचाहे और सही वर की अभिलाषा लिए परंपरा अनुसार सर के बाल हीं मुंडवा लेती हैं और बिल्कुल गंजी हो जाती हैं. जिसके पश्चात बोराना जनजाति के लोगो की माने तो ये करना बिलकुल सही साबित होता है और गंजेपन की ये रिवाज बेहतर जीवनसाथी के साथ साथ खुशहाल शादीशुदा जिंदगी भी देता है.

- Advertisement -


आपको बताते चले की ये बस्ती इथियोपिया और सोमालिया के बीच बसा हुआ है जो साउथ अफ्रीका में बसा हुआ है.
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस रीति रिवाज में यहां लड़कियों के सर के एक बड़े से जगह को मुंडवा कर बालो से मुक्त करना चाहिए, जहां अपने ख्वाबों के शहजादे की ख्वाहिश में वहां की लड़कियां पूरा सर ही मुंडवाना ज्यादा सही समझती हैं, ताकि जैसा वर वो चाहती हैं बिल्कुल वैसा हीं उन्हे मिले. आपको बता दे की शादी के बाद ये लड़कियां चाहे तो वापस से अपने बालों को उगता हुआ छोड़ सकती हैं, जिससे की बाल लंबे भी हो जाते हैं तब दिक्कत नहीं होगी और इसकी इजाजत खुले मन से लड़कियों को होती है. चुकी एक बेहतरीन पति की खोज खत्म हो जाती है.

BORANA TRIBAL

आपकी जानकारी के लिए बता दें की बोराना जनजाति वाले यहां के लोगो में और भी बड़े अजीबो गरीब परंपराओं सहित किस्से और कहानियां मशहूर है. वहीं आपको ये जानकर भी हैरानी होगी की यहां की औरतें बकरियों के खाल को अपना कपड़े के रूप में इस्तेमाल करती हैं, जी हां और ऐसे में ये लड़कियां उसी को पहन वहां के संस्कृति को बढ़ावा देने का काम करती है. विभिन्न प्रकार के नियम वाले ये लोग खास तौर पर फोटो क्लिक करवाने से बेहद हिचकते हैं और इसका कारण यहां ये बेटा जाता है की तस्वीरे लेने पर इनके अंग में खून की कमी होने लगती है जबकि बस्ती के लोग ऐसा करते हैं तो इन्हे एनीमिया जैसी बीमारी के शिकार होने का खतरा हो जाता है.

आपको बता दे की ये बोराना जनजाति से ताल्लुक रखने वाले लोग अपने हर प्रथा को शुरुआत से ही मानते है. जिसकी हर मान्यता को आज भी फॉलो किया जाता है, ऐसे में अपनी संस्कृति का पालन करने की सोच से आज भी रीति रिवाजों को नियम से माना जाता है.

- Advertisement -

Latest News

PM मोदी से आम आदमी कैसे कर सकता है बात? जाने नंबर, एड्रेस से लेकर ईमेल आईडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतने लोकप्रिय हैं कि उनके सोशल मीडिया साइट्स पर करोड़ो फॉलोवर्स हैं. ऐसे में उनसे जुड़े...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...