एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री, Fadnavis ने बताया- शाम साढ़े सात बजे लेंगे शपथ

ज़रूर पढ़ें

जनता ने महाविकास अघाड़ी को बहुमत नहीं दिया था. चुनाव के बाद बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी थी. बीजेपी-शिवसेना ने गठबंधन में चुनाव गठबंधन में चुनाव लड़ा था, लेकिन शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बनाई. इसके लिए शिवसेना ने बाला साहेब ठाकरे के विचारों को भी ताक पर रख दिया

Eknath Shinde Chief Minister: एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र की सियासत में बड़ा खेल कर दिया है. शिवसेना से मुँह मोड़कर एकनाथ शिंदे ने बागी तेवर दिखाते हुये साफ़ कर दिया कि अब वो उद्धव सरकार का साथ नहीं देंगे. आज एक बड़ा ऐलान करते हुये महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि प्रदेश के नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे होंगे. इस चौंकाने वाली रणनीति के बात राजनीती में भूचाल आ गया है.

- Advertisement -

बीते बुधवार को उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर इसे महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को सौंप दिया। ऐसे में कल से हीं कयास लगाए जा रहे थे कि एक बार फिर ब्ब्ज्प खेल कर देगी और देवेंद्र फडणवीस को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बना दिया जायेगा.

आज शाम 7 बजे लेंगे सीएम पद का शपथ

आज देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान बताया गया कि मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में एकनाथ शिंदे को चुना गया है. यहां ये भी बताया कि आज शाम साढ़े सात बजे सिर्फ एकनाथ शिंदे ही शपथ लेंगे.

- Advertisement -

प्रेस कॉन्फ्रेंस में देवेंद्र फडणवीस ने किया ऐलान

यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि जनता ने महाविकास अघाड़ी को बहुमत नहीं दिया था. चुनाव के बाद बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी थी. बीजेपी-शिवसेना ने गठबंधन में चुनाव गठबंधन में चुनाव लड़ा था, लेकिन शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बनाई. इसके लिए शिवसेना ने बाला साहेब ठाकरे के विचारों को भी ताक पर रख दिया. 

इस दौरान फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि सरकार के दो-दो मंत्री जेल में हैं. इससे पहले ऐसा कभी नहीं हुआ. बालासाहेब ने हमेशा दाऊद का विरोध किया, लेकिन उद्धव सरकार का एक मंत्री दाऊद से जुड़ा हुआ था. जेल में जाने के बाद भी उसे मंत्री पद से हटाया नहीं गया. ये बाला साहेब का अपमान है. फडवीस ने आरोप लगाया कि उद्धव सरकार ने आखिरी समय में संभाजी नगर किया गया. 

वहीँ एकनाथ शिंदे ने कहा कि हम महाराष्ट्र के विकास के लिए एकसाथ आए हैं. हम लोगों को महाविकास अघाड़ी सरकार में काम करने में समस्याएं आ रही थीं. इस बारे में हमने उद्धव ठाकरे को बताया था. हमने अपना पक्ष समझाने की कोशिश की थी. बीजेपी के साथ हमारा नेचुरल गठबंधन था. हम लोग बाला साहेब के विचारों कोलेकर आगे बढ़े तो सरकार की ओर से आखिरी में हिंदुत्व को लेकर कुछ फैसले लिए गए.  

यहां बता दें कि एकनाथ शिंदे ने बातचीत के दौरान महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री के साथ साथ पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित को शुक्रिया अदा किया.

मौजूदा समय में महाराष्ट्र की इस सियासत के तख्तापलट पर हर जगह चर्चा हो रही है.

- Advertisement -

Latest News

PM मोदी से आम आदमी कैसे कर सकता है बात? जाने नंबर, एड्रेस से लेकर ईमेल आईडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतने लोकप्रिय हैं कि उनके सोशल मीडिया साइट्स पर करोड़ो फॉलोवर्स हैं. ऐसे में उनसे जुड़े...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...