दिलीप कुमार के करियर की वो बेहतरीन फिल्में…

ज़रूर पढ़ें

Nisha
Nisha
--------------------------

‘ट्रैजडी किंग’ (Tragedy King) दिलीप कुमार हिन्दी फ़िल्मों के ऐसे अजीमो शान अभिनेता हैं जिनकी अदाकारी ने बीते 7 दशकों से भारतीय सिनेमा पर अपनी गहरी छाप छोड़ रखी है.

उन्हें एक्टिंग का चलता-फिरता स्कूल कहा जाता है…दिलीप साहब को भारतीय फ़िल्मों के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है….आइए नजर डालते हैं उनके यादगार सिनेमाई सफर पर…

- Advertisement -

मुगल ए आजम (1960)
अगर आपने अब तक मुगल ए आजम नहीं देखी तो आप खुद को कभी सिने प्रेमी मत कहिएगा. बॉलीवुड क्लासिक फिल्मों में शुमार इस फिल्म के बारे में जितना लिखा जाए कम ही है. यह फिल्म 5 अगस्त 1960 को रिलीज की गई थी. उस दौर में इस फिल्म को बनाने में 1.5 करोड़ रूपए लगे थे. रिलीज होने के बाद इस फिल्म ने करोड़ों का व्यवसाय किया था. इस फिल्म में दिलीप कुमार ने सलीम का किरदार निभाया था और मधुबाला ने अनारकली का. इनके अभिनय ने लोगों के दिलों में अनारकली और सलीम का एक रूप दे दिया. इस फिल्म ने नेशनल से लेकर फिल्मफेयर अवार्ड तक कई खिताब अपने नाम किए थे. सबसे बड़ी बात मुगल ए आजम ने लोगों का दिल जीत लिया था. जो सिनेमा नहीं देखते थे उन्होंने भी यह फिल्म देखी.

अंदाज (1949)
ऐसा पहली बार था जब दिलीप कुमार, राज कपूर और नरगिस एक साथ बड़े परदे पर नज़र आये थे। यह फिल्म अंदाज साल 1949 में रिलीज़ हुई थी। यह एक रोमांटिक फिल्म थी जिसमे लव ट्रैंगल को दिखाया गया था।

नया दौर (1957)
इस फिल्म में दिलीप कुमार ने लोगों को इतना भावुक कर दिया था कि वे रो पड़े थे. इस फिल्म में मशीन और आदमी के संघर्ष को दिखाया गया है. इस फिल्म में वैजयंती माला ने दिलीप कुमार के साथ अहम भूमिका निभाई है. इस फिल्म को बीआर चोपड़ा ने डायरेक्ट किया था. इस फिल्म को उस समय बहुत सराहना मिली थी. इस फिल्म में दिलीप कुमार की एक्टिंग मिसाल बन गई थी.

- Advertisement -

देवदास (1955)
इस फिल्म ने सिनेमाजगत में तहलका मचा दिया था. सिने प्रेमियों के लिए देवदास आज भी आइकॉनिक फिल्‍म है. इसके पात्र ‘पारो’ का किरदार असल जिंदगी से प्रेरित था. फिल्‍म ने दर्शकों पर ऐसी छाप छोड़ी कि इसी कहानी पर 47 साल बाद दोबारा फिल्‍म बनाई गई. यह फिल्म मशहूर लेखक और उपन्‍यासकार शरतचंद्र चट्टोपाध्‍याय के उपन्‍यास देवदास पर आधारित है. लीजेंड फिल्‍ममेकर बिमल रॉयल ने 1955 में फिल्‍म देवदास बनाई थी. यह फिल्म को 30 दिसंबर 1955 में रिलीज हुई और सुपर-डुपर हिट साबित हुई. उस दौरान इस फिल्म ने 1 करोड़ रुपये की कमाई की थी. दिलीप कुमार की फिल्म देवदास से वैजयन्ती माला को बॉलीवुड में पहचान मिली थी.

राम और श्याम (1967)
अगर आपने अब तक यह फिल्म नहीं देखी तो कृपया देख डालिए. हम ऐसा क्यों बोल रहे हैं इसका जवाब आपको यह फिल्म देखने के बाद मिल जाएगा. इस क्लासिक फिल्म में दिलीप कुमार ने डबल रोल किया था. अभिनय इतना जबरदस्त था कि लोगों को लगा ही नहीं कि कोई एक ही शख्स दोनों किरदार निभा रहा है. दिलीप कुमार के साथ वहीदा रहमान और मुमताज अहम भूमिका निभाती नजर आई थीं. यह 60 के दशक की एक सुपर एंटरटेनर फिल्म है. जिससे 70 के दशक बनने वाली फिल्मों को प्रेरणा मिली, जिसके बाद डबल जोड़ी वाली मसाला फिल्में चलन में आईं. इस फिल्म के गाने भी मधुर संगीत वाले कमाल के हैं.

मधुमती (1958)
बिमल रॉय के निर्देशन में बनी फिल्म मधुमती में दिलीप कुमार और वैजयंतिमाला मुख्य भूमिका में नज़र आयें थे यह फिल्म दिलीप के करियर की बेहतरीन फिल्मों में से एक थी। आगे चल कर इस फिल्म की कई रीमेक फ़िल्में, कूदरत, बीस साल बाद और ओम शांति ओम बनी। इस फिल्म के लिए दिलीप कुमार को फिल्मफेयर अवार्ड भी मिला था।

गोपी (1970)
‘रामचंद्र कह गए सिया’ से यह सुपरहिट गाना साल 1970 में रिलीज़ हुई फिल्म ‘गोपी’ का है, जो आज भी लोगों के दिलों पर राज करता है। इस फिल्म में दिलीप कुमार के साथ सायरा बानो नज़र आयीं थीं। इस जोड़ी ने आगे चल कर एक-दूसरे से शादी भी की।

आज़ाद (1955)
साल 1955 में रिलीज़ हुई फिल्म आज़ाद एक सुपरहिट फिल्म थी जो उस दौर में सबसे ज्यादा कमाई करने वाली टॉप फिल्म थी। इस फिल्म में दिलीप कुमार के साथ, मीना कुमारी मुख्य भूमिका में नज़र आयीं थी। इस फिल्म के सभी गाने भी हिट थे।

शक्ति (1982)
रमेश सिप्पी के निर्देशन में बनी क्राइम ड्रामा फिल्म शक्ति जो साल 1982 में रिलीज़ हुई थी, इस फिल्म ने 4 फिल्मफेयर अवार्ड जीते थे। फिल्म में दिलीप कुमार और अमिताभ बच्चन की बेहतरीन अभिनय को दर्शकों द्वारा खूब प्रशंसा मिली।

सगीना (1974)
फिल्म ‘सगीना’ साल 1974 में रिलीज़ हुई थी। इस फिल्म में दिलीप कुमार और सायरा बानो मुख्य भूमिका में दिखाई दिए थे। ‘साला में तो साहब बन गया’ यह पॉपुलर गाना इसी फिल्म का था, जिसे दिलीप कुमार पर फिल्माया गया था। इस गाने को किशोर कुमार ने गाया था।

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...