PM Modi US Visit पर चीन को लगी मिर्ची! कहा- अमेरिका कर रहा भारत को इस्तेमाल

ज़रूर पढ़ें

देश के प्रधानमंत्री अमेरिका दौरे पर जाने के लिए रवाना हो चुके हैं. लेकिन इसी बीच चीन की तरफ से एक बड़ा बयान सामने आया है. चीन ने कहा अमेरिका ने किया भारत का इस्तेमाल

देश के प्रधानमंत्री अमेरिका दौरे पर जाने के लिए रवाना हो चुके हैं. यह पहली बार ऐसा होगा की वो अमेरिका में स्टेट्स विजिट करेंगे. US के राष्ट्रपति जो बाइडन और अमेरिका की फर्स्ट लेडी यानी की जो बाइडन की पत्नी जिल बाइडन ने पीएम मोदी को आमंत्रण दिया था. इस बार का दौरा पीएम मोदी के लिए वाकय ख़ास रहेगा. क्योंकि इस बार प्रधानमंत्री अमेरिका में रहते हुए अंतराष्ट्रीय योग दिवस पर अमेरिका वासियों को सम्बोधित करने के लिए एक कार्यक्रम का हिस्सा भी बनेंगे.

चीन को लगी मिर्ची!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब भी किसी देश का दौरा करने जाते हैं तो उनका हमेशा भव्य स्वागत किया जाता है. इस बार भी पीएम मोदी अमेरिका के वाइट हाउस में आयोजित किये रात्रिभोज का लुफ्त उठाने के लिए तैयार हैं. बता दें की प्रधानमंत्री अभी रवाना ही हुए हैं की अमेरिका को इस बात की काफी मिर्ची लग रही है. रिपोर्ट की माने तो चीन का कहना की, पीएम मोदी अमेरिका के साथ साझेदारी करके एक बड़ा लाभ उठाना चाहती है. चीन का कहना है की अमेरिका से दोस्ती बढ़ाकर भारत को मजबूत बनाना चाहती है.

चीन के अखबार में लिखी गयी ये बड़ी बात

चीन और भारत के रिश्तों में हमेशा से ही खट्टास देखने को मिली है. इसी बीच चीन के अखबार में भारत को लेकर एक बड़ी बात छापी गयी है. अखबार में लिखा है “2014 में प्रधानमंत्री के रूप में कार्यभार को संभालने के बाद से पीएम मोदी की यह छठी बार अमेरिका यात्रा होगी, लेकिन अमेरिका में उनकी ये पहली राजकीय यात्रा है. अखबार में आगे लिखा गया की “अमेरिका चीन का सामना करने और उसकी (चीन) की आर्थिक प्रगति पर रोक लगाने के लिए भारत को आगे बढ़ाने का लगातार प्रयास करता हुआ दिख रहा है.

क्या अमेरिका को ढाल के रूप में इस्तेमाल कर रहा है भारत?

आपको ये जानकर काफी हैरानी होगी की अप्रैल 2022 से लेकर मार्च 2023 तक वित्तीय वर्ष में अमेरिका भारत का एक सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार बन चुका है. चीन के अखबार में यह भी लिखा गया की अगर व्यापार की गति इसी तरह जारी रहती है तो यह भारत की अर्थव्यवस्था को अधिकतम लाभ देगा. आगे ये भी कहा गया की “इस बात पर ख़ासा ध्यान देना चाहिए की अमेरिका ने भारत के साथ आर्थिक और व्यापारिक बातचीत को बढ़ाने के साथ-साथ भू-राजनीतिक जोड़ गणित पर भी ज़ोर दिया हैं.

CONTENT: NIKITA MISHRA

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...