सेना की वर्दी में हुआ बड़ा बदलाव, आधुनिक गुणवत्ता से भरपूर है नई वर्दी…सेना को आराम तो, दुश्मनो का जीना होगा हराम

ज़रूर पढ़ें

देश की सुरक्षा की बागडोर भारत के वीर जवानो के हाथ में होती है. भारतीय सैनिक अपनी जान पर खेलकर हिंदुस्तान की धरती को महफूज रखने के लिए दिन रत बॉर्डर पर तैनात रहते है. ऐसे में कई उनकी अपनी सुरक्षा को लेकर एक नई और अहम् खुशखबरी जुडी है. जहाँ उन्हें और आराम देने के लिए सेना की बरसो पुरानी बर्दी बदल दिया जा चूका है. जहाँ नए तकनीक के तहत सेना के वीर सैनिको को अब एक नया तोहफा मिल चूका है. यहां पिछले दिन आर्मी डे के मौके पर दिल्ली कैंट में परेड ग्राउंड पर पैराशूट रेजिमेंट के कमांडो को नईं यूनिफार्म में भी देखा गया. इस रिपोर्ट में बताएंगे की आखिर इस अनोखे वर्दी में ऐसा क्या है जिससे की सेना में तैनात पुरुष और महिला दोनों ही सैनिको को बहुत आरामदायक महसूस कराएगा.यहां दुश्नमनो तक पहुंचने में सैनिको को और आसानी होगी.


बता दे की 74वें स्थापना दिवस के अवसर पर भारतीय सेना ने पहली बार सार्वजनिक रूप से अपनी नई कॉम्बैट यूनिफॉर्म को सबके सामने पेश किया था, जिसके कुछ दृश्य सोशल मीडिया पर वायरल भी हो रहे हैं, जिसमें भारतीय सेना की पैराशूट रेजिमेंट के कमांडो मार्च करते दिखाई दे रहे हैं.यहां सेना के वीर योद्धाओ की सुबिधा के लिहाज से वर्दी पर ख़ासा काम किया गया है.जहाँ कपड़ें की क्वालिटी पर बात करे तो वो हल्का, मजबूत, होगा जिसे जवानो को पहनने के साथ साथ उसे मेंटेन करने में आसानी होगी.यहां सैनिको के लिए बेहतरीन सुबिधा ये भी है की उन्हें अपनी ड्रेस को टक-इन नहीं करने की जरुरत ही नहीं पड़ेगी. इनकी नई यूनिफॉर्म में बेल्ट ड्रेस के नीचे है जहाँ वर्दी का पूरा पैटर्न- डिजिटल डिज़ाइन कियता गया है. जवानो की वर्दी में डबल लेयर -होगी जो पेट और जांघ के बीच के हिस्से में आएगा.इसे सेना के काम करने की परिस्थितियों और जरूरतों और जंग के मैदान में सैनिकों की वर्दी में एकरूपता के लिहाज से बनाया गया है.

- Advertisement -


अक्सर ये बात कही जाती रही थी की वर्दी का ये पैटर्न काफी पुराना ही रहा है, जिसपर बिचार करते हुये इसे आधुनिक बनाने की योजना बनी. बता दे की इसे महिला सैनिको के लिहाज से भी ज्यादा सुविधाजनक बनाया गया है. इस बिच प्रोजेक्ट में शामिल एक प्रोफेसर ने बताया कि डेढ़ साल पहले भारतीय सेना ने हमसे संपर्क किया था और कॉम्बैट यूनिफॉर्म में बदलाव के बारे में खुले तौर पर चर्चा की थी.जबकि शुरुआत में केवल डिजाइन में बदलाव की बात थी लेकिन बाद में इसमें ज्यादा चेंज करने पर समर्थन बना.तब के बाद से नई यूनिफॉर्म सेना के दशकों पुराने कॉम्बैड ड्रैस की जगह लेगी. यहां सैनिको की नै वर्दी की एक और खासियत पर बता करे तो आपको बता दे की यह दुश्मनों को आसानी से गुमराह कर सकता है जहाँ छिपने के लिहाज से डिजिटल कैमोफ्लॉज पैटर्न पर आधारित है.आपको हम ये भी बता दे की भारतीय सैनिको की नई तकनीक वाली यूनिफॉर्म का कलर ओलिव ग्रीन और दूसरे शेड्स को मिलाकर तैयार किया गया. जबकि ऐसी ही एक ड्रेस का इस्तेमाल ब्रिटिश आर्मी भी करती है जहाँ भारतीय सेना में इसे इसी साल अगस्त में पूरी तरह से शामिल किया जा सकता है.यहां महत्वपूर्ण बात आपको बता दे की सेना के इस नए यूनिफॉर्म को नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (NIFT) के सहयोग से बनाया गया, जहाँ प्रोफेसरों और स्टूडेंट्स समेत 8 लोगों की टीम ने जवानों के ड्रेस के इस प्रोजेक्ट पर एक साथ काम किया है. जिसपर अधिकारियों का कहना है कि यह नई पोशाक सैनिकों के लिए ज्यादा आरामदायक होगी और डिजाइन में भी एकरूपता लाएगी. यह वर्दी हल्की होने के साथ ही ज्यादा मजबूत और जल्दी सूख जाएगी.

दरअसल सेना में ऐसे ड्रेस ऑपरेशनल एरिया में पहनते रहे हैं जबकि नई दिल्ली में सेना मुख्यालय पर तैनात अधिकारी हर शुक्रवार को बॉर्डर पर तैनात जवानों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए इस ड्रेस में नजर आते रहते हैं. यहां नई वर्दी में शर्ट को ट्राउजर में डालने की जरूरत न पड़े इसलिए जवानों के लिए अंदर टीशर्ट दिया गया है. इसपर एक्सपर्ट ने बताया कि ड्रेस को डिजाइन करते समय इस बात का विशेष तौर पर ख्याल रखा गया कि सैनिक अलग-अलग क्षेत्र में उसे पहनकर अपनी भूमिका निभा सकें. इसे पहनकर आसानी से पहचान में आना मुश्किल है.ईसिस दौरान भारतीय सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘नई वर्दी पुरानी के मुकाबले दुश्मन को बेहतर तरीके से धोखा देने में सक्षम है.’ सेना ने हमेशा अन्य अर्धसैनिक बलों के समान पैटर्न के लड़ाकू कपड़े पहनने पर आपत्ति जताई है. अधिकारी ने कहा, “कई बार हमने इसे हरी झंडी दिखाई थी.
फिलहाल सेना के जवान भी नए ड्रेस कोड को पाकर बेहद उत्साहित नजर आ रहे हैं चुकी ये बेहद आरामदायक और सुबिधाजनक है. यहां मुख्या बात ये है की अब सैनिक और भी मुस्तैदी से देश के दुश्मनो का सामना कर सकेंगे साथ ही भारत की हिफाजत कर सकेंगे.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...