UCC को किया जाएगा पूरे देश में लागू! उत्तराखंड के UCC कानून में क्या है खास?

ज़रूर पढ़ें

उत्तराखंड सरकार की UCC (समान नागरिक संहिता) कानून विधानसभा में पास हो गया है. ऐसे में आने वाले समय में बीजेपी देशभर में UCC लागू करने पर चर्चा कर सकती है

भारतीय जनता पार्टी की उत्तराखंड सरकार की UCC (समान नागरिक संहिता) कानून विधानसभा में पास हो गया है. उत्तराखंड सरकार के इस कदम के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उत्तराखंड से UCC कानून बनने की शुरुआत हो गई अब धीरे धीरे पूरे देश में भी ये कानून बनेगा.

- Advertisement -

ऐसे में अब बीजेपी का UCC को लेकर काफी प्रभावी तेवर में है जबकि विरोध की आवाज अभी जारी है.

बीजेपी का UCC दांव

केंद्र सरकार ने 2016 में लॉ कमीशन से तर्क देते हुए कहा था कि देशभर में हजारों पर्सनल लॉ है जिसके लिए समान नागरिक संहिता (यूनिफॉर्म सिविल कोड) कानून लाना जरुरी है. इसके बाद लगातार बीजेपी की घोषणापत्रों में इसका जिक्र किया.

जबकि उत्तराखंड सरकार ने दावे अनुसार इस बिल को पास करवाने में सफल रही. ऐसे में आने वाले समय में बीजेपी देशभर में UCC लागू करने पर चर्चा कर सकती है.

- Advertisement -

उत्तराखंड UCC बिल में क्या है खास?

उत्तराखंड UCC बिल के अंतर्गत सभी धर्मो में शादी, तलाक, विरासत और ऐसे हीं सामाजिक मुद्दों से जुड़े कानून एक समान होंगे. हालांकि इसका विरोध करने वालों का तर्क है कि ये धर्मों के कानून में दखलंदाजी है.

  • उत्तराखंड UCC कानून के तहत राज्य में बहुविवाह को सभी धर्मों के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है.
  • उत्तराखंड में अब सभी धर्मों में अब शादी की एक कानूनी उम्र तय होगी.
  • किसी की मृत्यु के बाद अब पति/पत्नी, बच्चे और माता पिता एक समान संपत्ति में अधिकार होगा.
  • अब गोद लिए गए बच्चे और बायोलॉजिकल बच्चे दोनों का धिकार एक समान होगा.बायोलॉजिकल संतान में जायज और नाजायज दोनों शामिल हैं.
  • बेटा और बेटी दोनों का संपत्ति में एक जैसा अधिकार है.
  • लिव इन रिलेशन में रहने वालों को रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी हो जाएगा। अगर ऐसा नहीं किया गया तो 6 महीने की जेल होगी.
- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...