बांग्लादेश से आयी नक्सलियों का साथ देने वाली फातिमा उर्फ़ अंजलि गिरफ्तार , दफ़न हैं कई राज !

ज़रूर पढ़ें

नाम फातिमा
पहचान : अंजलि दिल्ली
काम : जिश्मफरोशी का धंधा करना, नक्सलियों की सबसे बड़ी राजदार.
यहां जिसकी पहचान हम आपको बता रहे हैं , ये कोई आम शातिर अपराधी नहीं है. फातिमा नाम की लड़की जो दिल्ली की बदनाम गलियो रानी है, उसने अपराध को चुनने के लिए सबसे बड़ा हथियार धर्म का खेला जहाँ इसने अपना नाम और पहचान हर किसी को अंजलि बताते रही .यहां इस मौतर्मा ने ऐसा बवाल मचाया है की सोशल मीडिया पर जमकर कोसा जा रहा है .वजह है इसकी वो करतूत जिसने ना जाने कितने मासूम जिंदगियों को डुबो दिया और ना जाने कितनो ने मौत को करीब से देखा .
बांग्लादेश की रहने वाली फातिमा कितनी शातिर है आप इस बात का पता इससे ही लगा सकते हैं की इसका कथित प्रेमी नक्सल से ताल्लुख रखता है . दुनिया की नजर में अंजलि बानी फातिमा उस निवेश पोद्दार की गर्लफ्रेंड/पत्नी समझती है जो नक्सली संगठन पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (PLFI) के मुखिया दिनेश गोप का राइट हैंड माना जाता है। यहां आपकी जानकारी के लिए बता दे की फातिमा करीबन 7 से 8 सालो से दिल्ली में रहकर नक्सलियों की पूरी मदद करती रही जहाँ कई सूचनाओं की दरअसल झारखंड पुलिस ने राँची के रहने वाले निवेश के साथ जिन लोगों को गिरफ्तार किया था, उनमें बांग्लादेशी महिला फातिमा भी थी। यहां पुलिस को सबसे बड़ा शक फातिमा पर ही है जहाँ उनका मन्ना है की निवेश की कथित पत्नी या प्रेमिका के सीने में कई गहरे राज दफन हैं. जहाँ पुलिस को अंदेशा है कि फातिमा पीएलएफआई और निवेश के कई राज जानती है. यहां नक्सलियों का राइट हैंड माने जाने वाले निवेश की मुलाकात जिश्मफरोशी के धंधे में लिपटी फातिमा की मुलाकात उसी बदनाम गलियों में हुये थी जिसके बाद ये दोनों इतने करीब आ गए की गुनाह अपराध की दूकान ये दोनों चलने लग गए .
दरअसल निवेश को भी यहां राष्ट्रीय राजधानी में एक ऐसा राजदार चाहिए था, जो दिल्ली में रहकर उसके अपराध में सबसे बड़ी मदद कर सके और उसकी अवैध कमाई को व्हाइट करने के काम की मॉनिटरिंग कर सके | जिसके लिए फातिमा को बाकायदा पत्नी के रूप में हर जगह घूमता भी रहा . जिससे की बात न बिगरे. पुलिस को अब तक फातिमा का पासपोर्ट नहीं मिला है, लेकिन तलाशी के दौरान फातिमा की फर्जी पहचान पात्र जरूरत मिला है जो उसका आधार कार्ड बताया गया .


बता दे की यहां फातिमा एक थ्री स्टार होटल भी चलाने लग गई थी जो निवेश के काली कमाई का हिस्सा था और यही , बांग्लादेशी महिला दिल्ली में सभी नक्सलियों को रहने का इंतजाम करती थी. दरअसल इस होटल का इस्तेमाल नक्सलियों को ठहराने के लिए ही ख़ास तौर किया गया था.
यहां नक्सलियो की हर हरकत पर झारखण्ड पुलिस की नजर है , जहाँ काफी समय से नकस्लवाद को राज्य से जड़ से उखारने की जोड़ आजमाइश चल रही हैं. जिसके तहत फिलहाल फातिमा की गिरफ़्तारी से पुलिस को बहुत बड़ी कामयाबी मिली हैं.

- Advertisement -

Latest News

PM मोदी से आम आदमी कैसे कर सकता है बात? जाने नंबर, एड्रेस से लेकर ईमेल आईडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतने लोकप्रिय हैं कि उनके सोशल मीडिया साइट्स पर करोड़ो फॉलोवर्स हैं. ऐसे में उनसे जुड़े...

अन्य आर्टिकल पढ़ें...