असदुद्दीन ओवैसी ने हिजाब की तुलना सिंदूर और मंगलसूत्र से की, बोले- हिजाब वाली बने प्रधानमंत्री

ज़रूर पढ़ें

AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने हिजाब की तुलना हिन्दू धर्म से जुड़े मंगलसूत्र और सिन्दूर से कर दी है. इस मसले पर फिलहाल सियासी रंग चढ़ चूका है. असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) इस पर खुलकर हिजाब का समर्थन कर रहे हैं

शिक्षण संस्थानों में हिजाब पहन कर जाने पर प्रतिबन्ध को लेकर चर्चा पूरे देश में चल रही है. हिजाब पर बैन को लेकर सुप्रीम कोर्ट के जजों की राय बंटी हुई थी. ऐसे में AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने हिजाब की तुलना हिन्दू धर्म से जुड़े मंगलसूत्र और सिन्दूर से कर दी है. इस मसले पर फिलहाल सियासी रंग चढ़ चूका है. असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) इस पर खुलकर हिजाब का समर्थन कर रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई का जिक्र करते हुए असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने कहा कि हम तो उम्मीद कर रहे थे कि सुप्रीम कोर्ट से एकमत से हिजाब के पक्ष में फैसला आएगा. लेकिन जजों की राय अलग रही, हम इसका सम्मान करते हैं.

- Advertisement -

मंगलसूत्र, सिंदूर से हिजाब की तुलना

असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) लगातार ये मनसा जाहिर कर चुकें हैं की देश की प्रधानमंत्री एक हिजाब वाली बने. ऐसे में उनकी इस सोच का आखिर क्या मतलब था ये वो खुद हीं जानते हैं. ओवैसी (Asaduddin Owaisi) वैसे तो देश बदलने और राष्ट्रहित का दावा करते हैं लेकिन देश की प्रधानमंत्री हिजाब पहने वाली हो ऐसी सोच पर कुछ लोगों को आशंका होती है की क्या वो देश में हर वर्ग का एक सामान सोच सकते हैं. बहरहाल मौजूदा वक़्त में हिजाब बैन को लेकर सुप्रीम कोर्ट के सुनवाई पर प्रतिक्रिया देते हुये असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने कहा कि इसे भाजपा ने बेवजह मुद्दा बना दिया है. यह तो लड़कियों की पसंद का मामला है. ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने एक टीवी चैनल से बातचीत में हिजाब की तुलना पगड़ी, सिंदूर और मंगलसूत्र से भी की. उन्होंने कहा, ‘यदि आप यूनिफॉर्म में एक सिख लड़के को पगड़ी की इजाजत देते हैं और हिंदू लड़की को सिंदूर लगाने और मंगलसूत्र की छूट देते हैं, लेकिन मुस्लिम लड़कियों को हिजाब की परमिशन नहीं मिलती है तो यह भेदभाव है.’ ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने कहा कि यदि बच्चे एक-दूसरे की धार्मिक परंपराओं को नहीं देखेंगे तो वह कैसे विविधता को समझेंगे. यह जरूरी है कि बच्चे स्कूल में ही सभी परंपराओं को समझें.

‘कुरान का फरमान- हिजाब अनिवार्य है’

- Advertisement -

असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने कहा कि इस्लाम में हिजाब अनिवार्य है. अल्लाह और कुरान ने हिजाब और निकाब को हुक्म बताया है. कोई यदि हिजाब नहीं पहनना चाहता है तो वह ऐसा कर सकता है, लेकिन किसी की इच्छा है तो उसे पहनने देना चाहिए. उन्होंने कहा कि अल्लाह का कुरान में फरमान है कि लड़कियां हिजाब पहनें. ओवैसी ने कहा कि क्या मैंने कभी कहा कि मैं उसी एंकर से बात करूंगा, जिसने हिजाब नहीं पहना हो.

हिजाब विवाद पर अब चीफ जस्टिस करेंगे न्याय

शैक्षणिक संस्थानों में हिजाब पर प्रतिबंध को बरकरार रखने वाले कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देने वाली विभिन्न याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने अपनी सुनवाई की. ऐसे में इस गंभीर मसले में दोनों ही सुप्रीम कोर्ट के जजों की राय बंटी हुई थी और अब इस मामले को बड़ी बेंच के समक्ष भेजा जाएगा. यहाँ जस्टिस हेमंत गुप्ता ने इस मामले में कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले को सही मानते हुए बैन के खिलाफ अपील को खारिज कर दिया, वहीं दूसरे जज सुधांशु धूलिया की पीठ ने उनसे उलट राय जाहिर की है. इस मामले में जजों की एकराय नहीं बनी ऐसी सम्भावना में केस को आगे चीफ जस्टिस के पास भेजा गया है. इस मामले की सुनवाई अब बड़ी बेंच करेगी.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...