दिल्ली दंगे की आरोपी का एडमिशन हुआ रद्द, जामिया में खुलकर लगे भड़काऊ भाषण

ज़रूर पढ़ें

जामिया के छात्रों ने प्रदर्शन के दौरान ‘RSS की कब्र खुदेगी, जामिया की धरती पर’ और ‘ABVP की कब्र खुदेगी, जामिया की धरती पर’ जैसे भड़काऊ नारे भी लगाए

देश के शांति और प्रतिष्ठित माहौल को खराब करने और भारत सरकार को बदनाम करने की साजिश रचने वाली तथाकथित मुस्लिम एक्टिविस्ट सफूरा जरगर अब एक फिर चर्चा में आ गईं हैं. हिन्दू विरोधी दंगे की आरोपी सफूरा जरगर CAA-NRC विरोधी प्रोटेस्ट में शामिल थीं.

- Advertisement -

कुल मिलाकर सफूरा जरगर कानून के नजर में गुनहगार हैं, जिनपर राष्ट्रीय राजधानी को आग में झोकने का आरोप है. फ़िलहाल गर्भवती होने के कारण मानवीय आधार पर अदालत ने उन्हें जमानत दे दी थी.

मौजूदा समय में जामिया यूनिवर्सिटी में एमफिल की स्कॉलर सफूरा जरगर का एडमिशन रद्द कर दिया गया, अब ये मुद्दा जबरदस्त तरीके से सुर्खियां बन रहा है. सफूरा जरगर के समर्थन में जामिया युनिवर्सिटी के कुछ छात्रों ने जमकर नारेबाजी की. वीडियो सोशल वायरल भी हो रहा है.

जामिया में जमकर लगे भड़काऊ नारे

- Advertisement -

जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों ने दिल्ली दंगो की आरोपी सफूरा जरगर के समर्थन में विरोध प्रदर्शन किया, इस बिच कई भड़काऊ नारे लगे. इस मामलें को लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं. लोगों का कहना है की आखिर एक आरोपी के समर्थन में ऐसे माहौल पैदा करना वो किस तरीके की सोच व्यक्त करता है. जामिया के छात्रों ने प्रदर्शन के दौरान ‘RSS की कब्र खुदेगी, जामिया की धरती पर’ और ‘ABVP की कब्र खुदेगी, जामिया की धरती पर’ जैसे भड़काऊ नारे भी लगाए.

26 अगस्त को सफूरा जरगर का एडमिशन हुआ था रद्द

बीते 26 अगस्त को जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनीवर्सिटी की रिसर्च स्कॉलर सफूरा जरगर का एडमिशन कैंसिल कर दिया गया था. सफूरा ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी थी.

उन्होंने अपने ट्वीट में नोटिस शेयर करते हुए लिखा- ”जामिया के इतने धीमे एडमिशन ऑफिस ने बिजली सी तेजी दिखाते हुए उनका एडमिशन कैंसिल कर दिया है. इस बात से मेरा दिल जरूर टूटा है मगर उनका जज्बा नहीं”

गौरतलब है की डीन ऑफिस ने 26 अगस्‍त को नोटिस जारी कर उन्‍हें जानकारी दी कि उनका एडमिशन रद्द कर दिया गया. सफूरा जामिया से MPhil की स्‍कॉलर थीं. सफूरा जरगर के खिलाफ UAPA लगा था.

जामिया ने किया था एडमिशन रद्द

सफूरा ने यूनिवर्सिटी से मिले नोटिस को भी ट्वीट के साथ शेयर किया है. जिसमें एडमिशन रद्द होने की जानकारी दी गई थी. 26 अगस्त को जारी नोटिस के मुताबिक उनकी MPhil/PhD रद्द कर दी गई है क्योंकि-

  • उनके सुपरवाइजर के मुताबिक प्रोग्रेस रिपोर्ट संतोषजनक नहीं है
  • स्कॉलर ने अधिकतम समय सीमा बीत जाने के बाद भी अतिरिक्त समय के लिए अप्लाई नहीं किया
  • स्कॉलर ने निर्धारित 5 सेमेस्टर और कोरोना की वजह से मिले एक अतिरिक्त 6वें सेमेस्टर तक (6 फरवरी 2022) अपनी MPhil डिजर्टेशन सब्मिट नहीं की.
- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...