5G in India: PM मोदी ने किया 5G लांच, 6 प्वाइंट में जाने प्रधानमंत्री ने क्या क्या कहा

ज़रूर पढ़ें

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने आज ऐतिहासिक पल का आगाज किया है. पीएम मोदी ने इंडिया मोबाइल कांग्रेस (IMC 2022) के छठे एडिशन में 5जी सर्विस का शुभारंभ किया. देश को गतिशील बनाने की राह में 5G सर्विस को एक बड़ी सौगात मानी जा रही है. पहले फेज में 13 शहर अहमदाबाद, बेंगलुरु, चंडीगढ़, चेन्नई, दिल्ली, गांधीनगर, गुरुग्राम, हैदराबाद, जामनगर, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई और पुणे में 5G कनेक्टिविटी की शुरुआत होगी. इसके बाद योजनाबद्ध तरीके से 5जी को देश के हर हिस्से में पहुंचाया जाएगा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने आज ऐतिहासिक पल का आगाज किया है. पीएम मोदी ने इंडिया मोबाइल कांग्रेस (IMC 2022) के छठे एडिशन में 5जी सर्विस का शुभारंभ किया. देश को गतिशील बनाने की राह में 5G सर्विस को एक बड़ी सौगात मानी जा रही है. पहले फेज में 13 शहर अहमदाबाद, बेंगलुरु, चंडीगढ़, चेन्नई, दिल्ली, गांधीनगर, गुरुग्राम, हैदराबाद, जामनगर, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई और पुणे में 5G कनेक्टिविटी की शुरुआत होगी. इसके बाद योजनाबद्ध तरीके से 5जी को देश के हर हिस्से में पहुंचाया जाएगा. प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) आज 5 सर्विस का लांच प्रगति मैदान से किया. जिसके बाद उन्होंने देश को सम्बोधित करते हुये सेवाओं का लाभ और उसकी पूरी योजना का जिक्र किया. ‘इंडिया मोबाइल कांग्रेस-2022 में यह पहली बार है, जब देश में किसी जगह पर 5जी का सफलतापूर्वक इस्तेमाल हुआ. यहां प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने अपने सम्बोधन में बताया की 5G आने से क्या बदलेगा, और इसकी क्या विशेषता क्या है? आइये जानते हैं प्रधानमंत्री मोदी (Narendra Modi) की वो 6 बड़ी बातें.

- Advertisement -

भारत ने 5G के जरिए रचा इतिहास

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2022 के छठे एडिशन की शुभारंभ सभा को संबोधित करते हुये कहा कि 2G, 3G, 4G के समय भारत टेक्नोलॉजी के लिए दूसरे देशों पर निर्भर रहा, लेकिन 5G के साथ भारत ने नया इतिहास रच दिया है. 5G के साथ भारत पहली बार टेलीकॉम टेक्नोलॉजी में ग्लोबल स्टैंडर्ड तय कर रहा है, लेकिन डिजिटल इंडिया सिर्फ एक नाम नहीं है, ये देश के विकास का बहुत बड़ा विजन है. इस विजन का लक्ष्य है उस टेक्नोलॉजी को आम लोगों तक पहुंचाना जो लोगों के लिए काम करे, लोगों के साथ जुड़कर काम करे. हमने 4 Pillars पर, चार दिशाओं में एक साथ फोकस किया. पहला-डिवाइस की कीमत, दूसरा-डिजिटल कनेक्टिविटी, तीसरा- डेटा की कीमत और चौथा- डिजिटल फर्स्ट की सोच.

भारत मोबाइल फोन के उत्पादन में दुनिया में नंबर 2 पर

- Advertisement -

पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा कि बहुत से लोगों ने आत्मनिर्भर की मेरी बात का मजाक उड़ाया था. 2014 तक हम करीब 100 फीसदी मोबाइल फोन आयात करते थे. इसलिए हमने तय किया कि हम क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनेंगे. हमने मोबाइल मैनुफैक्चरिंग यूनिट को बढ़ाया. 2014 में जहां देश में 2 मोबाइल मैनुफैक्चरिंग यूनिट थे, अब उनकी संख्या 200 के ऊपर है. हमने भारत में मोबाइल फोन के उत्पादन को बढ़ाने के लिए इंसेंटिव दिए, प्राइवेट सेक्टर को बढ़ावा दिया और आज इसी योजना का विस्तार पीएलआई स्कीम में देख रहे हैं. इन प्रयासों का नतीजा बहुत पॉजिटिव रहा. आज भारत मोबाइल फोन के उत्पादन में दुनिया में नंबर 2 पर है. पीएम मोदी ने कहा कि इतना ही नहीं, कल तक जो मोबाइल में आयात करते थे, आज हम दुनिया को भेज रहे हैं. 2014 में जीरो मोबाइल फोन निर्यात करने से लेकर हजारों करोड़ रुपये के मोबाइल फोन निर्यात करने वाले देश बन गए हैं.

भारत टेक्नोलजी का सिर्फ़ कंज्यूमर बनकर नहीं रहेगा

पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा कि आज देश की ओर से देश की टेलीकॉम इंडस्ट्री की ओर से 130 करोड़ भारतवासियों को 5G के तौर पर एक शानदार उपहार मिल रहा है. 5G देश के द्वार पर नए दौर की दस्तक है. 5G अवसरों के अनंत आकाश की शुरुआत है. नया भारत टेक्नॉलजी का सिर्फ़ कंज्यूमर बनकर नहीं रहेगा बल्कि भारत उस टेक्नोलॉजी के विकास में, उसके इंप्लीमेंटेशन में एक्टिव भूमिका निभाएगा. भविष्य की वायरलेस टेक्नोलॉजी को डिजाइन करने में, उस से जुड़ी मैनुफैक्चरिंग में भारत की बड़ी भूमिका होगी.

भारत में डेटा की कीमत बहुत कम

पीएम मोदी ने कहा कि आज हमारे छोटे व्यापारी हों, छोटे उद्यमी हों, लोकल कलाकार और कारीगर हों, डिजिटल इंडिया ने सबको मंच दिया है, बाजार दिया है. आज आप किसी लोकल मार्केट में या सब्जी मंडी में जाकर देखिए, रेहड़ी-पटरी वाला छोटा दुकानदार भी आपसे कहेगा, कैश नहीं यूपीआई कर दीजिए. ये बदलाव बताता है कि जब सुविधा सुलभ होती है तो सोच किस तरह सशक्त हो जाती है. आज टेलीकॉम सेक्टर में जो क्रांति देश देख रहा है, वह इस बात का सबूत है कि अगर सरकार सही नीयत से काम करे तो नागरिकों के नीयत बदलने में देर नहीं लगती है. हमारी सरकार के प्रयासों से भारत में डेटा की कीमत बहुत कम बनी हुई है. ये बात अलग है कि हमने इसका हल्ला नहीं मचाया, बड़े-बड़े विज्ञापन नहीं दिए. हमने फोकस किया कि कैसे देश के लोगों की सहूलियत बढ़े, ईज ऑफ लिविंग बढ़े.

डिजिटल पेमेंट्स का रास्ता आसान

पीएम मोदी ने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि एक वक्त था जब इलीट क्लास के कुछ मुट्ठी भर लोग गरीब लोगों की क्षमता पर संदेह करते थे. उन्हें शक था कि गरीब लोग डिजिटल का मतलब भी नहीं समझ पाएंगे. लेकिन मुझे देश के सामान्य मानवी की समझ पर, उसके विवेक पर, उसके जिज्ञासु मन पर हमेशा भरोसा रहा है. सरकार ने खुद आगे बढ़कर डिजिटल पेमेंट्स का रास्ता आसान बनाया. सरकार ने खुद ऐप के जरिए सिटिजन सेंट्रिक डिलीवरी सर्विस (citizen-centric delivery service) को बढ़ावा दिया. बात चाहे किसानों की हो, या छोटे दुकानदारों की, हमने उन्हें ऐप के जरिए रोज की जरूरतें पूरी करने का रास्ता दिया. हमारे देश की जो ताकत है, इस ताकत को हम नजरअंदाज नहीं कर सकते.

85 करोड़ तक पहुंचे इंटरनेट यूजर्स

पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा कि आप भी जानते हैं कि कम्युनिकेश सेक्टर की असली ताकत डिजिटल कनेक्टिविटी है. जितने ज्यादा लोग कनेक्ट होंगे, इस सेक्टर के लिए उतना अच्छा है. अगर हम ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी की बात करें तो 2014 में 6 करोड़ यूजर्स थे, आज इनकी संख्या 80 करोड़ से ज्यादा हो चुकी है. अगर हम इंटरनेट कनेक्शन की बात करें तो 2014 में जहां 25 करोड़ इंटरनेट कनेक्शन थे, वहीं आज इसकी संख्या करीब 85 करोड़ पहुंच गई है. यह बात भी नोट करने वाली है कि आज शहरों में इंटरनेट यूजर के मुकाबले हमारे ग्रामीण इलाकों में इंटरनेट यूजर्स की संख्या तेजी से बढ़ रही है.

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...