सीएम योगी ने रखा गर्भगृह का पहला पत्थर, बोले- यह राष्ट्र मंदिर होगा!

ज़रूर पढ़ें

अयोध्या में भव्य राममंदिर के निर्माण के लिए आज ऐतिहासिक दिन है. अयोध्या में भगवान श्री राम के मंदिर निर्माण का काम तेजी से चल रहा है.आज से गर्भगृह का निर्माण शुरू हो गया. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज गर्भगृह के निर्माण के लिए पहली शिला रखी. इसके साथ ही 29 मई से शुरू हुआ सर्वदेव अनुष्ठान का समापन हो गया. अब सीएम योगी निर्माण स्थल के पास द्रविड़ शैली में बने मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में भी शामिल होंगे.

आज सीएम योगी आदित्यनाथ पहले हनुमानगढ़ी मंदिर में हनुमान जी का दर्शन-पूजन करने पहुंचे और उसके बाद भगवान राम की जन्मभूमि में शिलापट्ट रखा.” वहीं राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा के कार्यालय के बयान के अनुसार फरवरी 2022 में शुरू हुए ग्रेनाइट पत्थर से बने चबूतरे का निर्माण अगस्त 2022 तक पूरा करने की योजना है.

- Advertisement -

इस मौके पर सीएम योगी ने कहा, “श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण कार्य का शुभारंभ लगभग 2 वर्ष पहले प्रधानमंत्री मोदी के करकमलों से हुआ और सफलतापूर्वक ये निर्माण कार्य आगे बढ़ रहा है. अक्रांताओ ने भारत की आस्था पर प्रहार किया। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम का भव्य मंदिर अयोध्या धाम में बनकर देश और दुनिया के सभी सनातन हिन्दू धर्मावलंबियों की आस्था का प्रतीक तो बनेगा ही, श्री राम जन्मभूमि मंदिर भारत का राष्ट्र मंदिर होगा.”

सीएम योगी ने आगे कहा कि पिछले 500 साल से देश के साधु-संत राम मंदिर आंदोलन को चला रहे थे, आज उन सभी लोगों के दिल को खुशी मिली होगी, गर्भगृह का पहला पत्थर रख दिया है, गोरक्षनाथ पीठ की तीन पीढ़ी इस मंदिर आंदोलन से जुड़ी हुई थी. गर्भगृह का पहला पत्थर रखने के बाद मीडिया से बात करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज से शिलाओं के रखने का काम तेजी से शुरू हो जाएगा, अब वो दिन दूर नहीं है जब मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर अयोध्या धाम में बनकर तैयार हो जाएगा, यह मंदिर भारत का राष्ट्र मंदिर होगा.

वहीं अयोध्या राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा ने कहा कि अधिरचना पर काम आज से शुरू हो रहा है, हमारे पास कार्यों को पूरा करने के लिए 3-चरण की समय सीमा है, 2023 तक गर्भगृह, 2024 तक मंदिर निर्माण और 2025 तक मंदिर परिसर में मुख्य निर्माण होगा.

- Advertisement -

वहीं रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने काशी, मथुरा को लेकर भी एक बयान दिया था। उन्होंने कहा था, “अयोध्या में भव्य राम मंदिर के बाद मथुरा, वृंदावन, विंध्यवासिनी धाम, नैमिष धाम समेत सभी तीर्थ एक बार फ‍िर से नई अंगड़ाई लेते हुए दिखाई दे रहे हैं और इन स्थितियों में हम सबको एक बार फ‍िर आगे बढ़ना होगा।

वहीं उत्तर प्रदेश के अयोध्या में शराब की दुकानों को लेकर योगी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र में पड़ने वाली सभी शराब की दुकानों के लाइसेंस निरस्त कर दिए गए हैं. आबकारी मंत्री ने विधान परिषद में बताया कि आबकारी दुकानों की संख्या और स्थिति नियमावली 1968 बनाई गई है, जिसमें समय-समय पर जरुरत के मुताबिक संशोधन किए जाते हैं. अभी संशोधन पर सरकार विचार नहीं कर रही.”

- Advertisement -

Latest News

अन्य आर्टिकल पढ़ें...